Symptoms of nine Mounth Pregnancy | डिलीवरी कितने दिन में होती है | गर्भवती को नौवें महीने में समस्या | शिशु की हलचल कम होने का कारण | Symptoms of nine Mounth Pregnancy | डिलीवरी कितने दिन में होती है

प्रेग्नेंसी का नौवा महीना

और पढ़ें:– गर्भावस्था के आठवें महीने में देखभाल

Tips for Normal Delivery

और पढ़ें:– 7th Month Pregnancy Care in Hindi

  • प्रेग्नेंसी के नौवें महीने शुरू होने तक शिशु का विकास पूरी तरह हो जाता है।
  • शिशु की ज्यादातर सभी हड्डियां मजबूत हो जाती है। शिशु की खोपड़ी नरम होती है।
  • शिशु की खोपड़ी नरम इसीलिए होती है क्योंकि जब शिशु का जन्म होता है तो सिर सबसे पहले बर्थ कनाल से बाहर आता है।
  • इसी वजह से शिशु की खोपड़ी नरम होती है ताकि शिशु आसानी से बाहर आ सके।
  • जन्म के बाद धीरे धीरे शिशु की खोपड़ी मजबूत होती है। नौवें महीने में शिशु नीचे की और चला जाता है।
  • शिशु सिर को नीचे की और कर लेता है।
  • लगभग 1-2% मामलों में बच्चा सिर नीचे की और नहीं करता है जिससे नॉर्मल डिलीवरी कर पाना संभव नहीं होता है।
  • सिर ऊपर की और होता है और पैर नीचे की और होते हैं तो नॉर्मल डिलीवरी की कोशिश करते हैं तो शिशु की हर्ट बीट बढ़ जाती है।
  • शिशु को ऑक्सिजन पहुंचने रुकावट हो सकती है ऐसे में सिजेरियन डिलिवरी की जाती है।

डिलीवरी कितने दिन में होती है

  • ज्यादातर प्रेग्नेंसी मे शिशु का जन्म 36 वे सप्ताह से 40 वे सप्ताह तक हो जाता है।
  • शिशु के जन्म की डेट डॉक्टर दे देता है अगर उस टाइम नहीं हो तो इंतजार नहीं करे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • लापरवाही से मां और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है।
  • गर्भावस्था में पहले महीने से आखिरी महीने तक डॉक्टर से संपर्क जरूर करते रहे।

नौवें महीने में खाने का ध्यान रखें

  • प्रेग्नेंसी में गर्भवती को अपनी सेहत का ध्यान रखना चाहिए।
  • गर्भवती को खाना दिन चार पांच बार थोड़ा थोड़ा खाना चाहिए एक बार मे ज्यादा नहीं खाए।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान भूखा रहना सही नहीं क्योंकि आपकी भूख नहीं लगे लेकिन आपके बच्चे को भूख लगती है।
  • गर्भवती को समय समय पर खाना खाना चाहिए।
  • गर्भवती क्या क्या खाना खाए इसके बारे मे पूरी जानकारी के लिए हमारी अन्य पोस्ट पढ़े।

प्रेग्नेंसी के नौवें महीने में शिशु की हलचल कम क्यों होती है

  • प्रेग्नेंसी के नौवें महीने में शिशु की हलचल पहले के मुकाबले कम हो जाती है।
  • जिससे गर्भवती महिलाए परेशान हो जाती है। उन्हे लगता है कि हलचल कम हो रही है कोई प्रॉब्लम तो नहीं है।
  • इसमें गर्भवती महिलाए परेशान नहीं रहे क्योंकि नौवें महीने में शिशु कम हलचल करता है।
  • ज्यादा परेशान हो तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

और पढ़ें:– 4th Month of Pregnancy in Hindi

और पढ़ें:–5 Month Pregnancy in Hindi

हलचल कम होने का कारण

  • गर्भाशय में शिशु को घूमने के लिए ज्यादा जगह नहीं मिलती है क्योंकि शिशु आकार बढ़ जाता है।
  • शिशु का सिर नीचे की और चला जाता है और पैर ऊपर की और हो जाते हैं।
  • ऐसे में शिशु का ज्यादा हलचल कर पाना संभव नहीं है।
  • इसीलिए आपको सातवें और महीने के मुकाबले नौवें महीने में कम हलचल महसूस होती है।

गर्भवती को नौवें महीने में होने वाली समस्या

  • नौवें महीने के दौरान गर्भवती महिलाओं को हल्का पेट दर्द हो सकता है।
  • गर्भवती महिलाओं को फॉल्स लेबर पेन भी हो सकता है।
  • फॉल्स लेबर पेन असली लेबर पेन की तरह ही होता है फर्क सिर्फ इतना होता है कि यह सिर्फ 40 सैकंड से एक मिनट तक रहते हैं।
  • दर्द ऐसा ही होता है जैसे पीरियड्स के दौरान होता है।
  • लेबर पेन से गर्भाशय खुद को डिलीवरी के लिए तैयार करता है।
  • अगर आपको पेन ज्यादा समय तक हो और सहा नहीं जाता हो तो डॉक्टर के पास जरूर जाए।
  • नौवें महीने में पेट बढ़ने के कारण गर्भवती को नीचे की और भारीपन महसूस होता है।
  • जिससे गर्भवती महिलाओं को उठने बैठने में परेशानी आती है।
  • गर्भवती की रीढ़ की हड्डी में जोर पड़ने के कारण कमर दर्द होने लगता है।
  • हाथो और पैरो में सूजन भी आ जाती है।
  • बार बार पेशाब आता है क्योंकि पेट का साइज बढ़ने के कारण गर्भाशय मूत्राशय पर दवाब डालता है जिससे बार बार पेशाब आता है।
  • नींद नहीं आती है, बेचैनी होती है, सांस लेने में दिक्कत होने लगती है।

आपको Symptoms of nine Mounth Pregnancy | डिलीवरी कितने दिन में होती है यह जानकारी कैसी लगी कमेंट बॉक्स ने लिखकर जरूर बताए | कोई जानकारी रह गई और आपके कोई प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें हम जल्द से जल्द आपको जवाब देने की कोशिश करेंगे।
अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगे और आपको ऐसी जानकारी पड़ना और अपनी नॉलेज को बढ़ाना चाहते हो तो दिए गए न्यूज़लैटर बॉक्स में अपनी डिटेल भरकर सब्सक्राइब करे और दिए गए Bell Icon को जरूर दबाए
जिससे आपको ई- मेल और
Mobile Notification के जरिए समय – समय नई जानकारी के लिए अपडेट कर सके धन्यवाद।

Show 2 Comments

2 Comments

  1. m

    great very intresting

    few helpful links about pakistan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *