24.6 C
New York
Thursday, July 29, 2021

मोटापा और अधिक वजन में अंतर | थेरेपी वजन कम करने के लिए

हमारे भारत में 56% लोग मोटापे से परेशान हैं या बैली फैट से परेशान हैं सब एक लाइफस्टाइल की प्रॉब्लम है हमारे शरीर के अंदर एक लिमिट से ज्यादा वसा इकट्ठी हो जाती है तो वह मोटापा कहलाता है सबसे पहले फैट/वसा हमारे पेट के आसपास इकट्ठा होना शुरू हो जाता है फिर हमारे टिशू के अंदर जाता है फिर धीरे-धीरे हमारे पैरों के अंदर जाता है धीरे धीरे फैट/वसा हमारे शरीर के अलग-अलग हिस्सों में इकट्ठा होना शुरू हो जाता है ।

अधिक वजन का मतलब

  • आपका वजन अपने नॉर्मल वजन से थोड़ा ज्यादा है हम इसका पता लगा सकते हैं BMI (BODY MASK INDEX) से माप सकते है। आप अपनी हाईट (मीटर में) लेकर अपने वजन से भाग कर दे (HIGHT/WAIGHT)
  • नॉर्मल BMI वाले लोग – 18 से 24
  • अधिक वजन लोग — 25 से 30
  • मोटापा जिसकी वजह से बीमारी बढ़ती है — वह 30 से उपर BMI वाले लोगो में देखा गया हैं।

मोटापा क्यों होता हैं ?

  • हम कितनी कैलोरी खाते है और क्या खाते है और कितनी बार खाते हैं इससे पता चलता है की हमे कितनी एनर्जी मिली और फिर हम काम करते है इस एनर्जी को खर्च किया ।
    अगर जितनी एनर्जी मिली और जितनी खर्च की उन दोनों का हिसाब लगाए तो अगर एनर्जी मिलने वाला पार्ट ज्यादा हो गया तो समझो हम मोटे होने लगे हैं
  • अगर खर्च करने वाला पार्ट ज्यादा हो जाए तो पतले होने लगते है
  • यही मुख्य कारण है मोटापा बड़ने का ।अगर हम रोजाना 10000 कैलोरी ले रहे हैं और 2000 कैलोरी का उपयोग नहीं कर रहे तोतो वह कैलोरी हमारे शरीर के अलग-अलग हिस्सों में जमा होना शुरू हो जाएगी और जब जमा होना शुरू होगी तो वह एनर्जी के रूप में बदल नहीं पाएगी और जब ऊर्जा के रूप में बदलेगी नहीं तो फैट के रूप में बन जाएगी जैसे आपका पेट का फैट धीरे-धीरे आगे बढ़ता जाएगा तो आपके अंदर बीमारियां भी नई-नई बनने लग जाएंगे
  • थायराइड भी मोटे होने का एक बड़ा कारण बना हुआ है अगर थायराइड की प्रॉब्लम होने पर अपने डॉक्टर से जल्द से जल्द संपर्क करे।
  • लेडिज में कुछ हार्मोन होते है जो मोटापे का कारण बनते है ।
  • जेनेटिक एक कारण हो सकता है जीन्स में भी आ जाते है जो की आपको अपने माता,पिता, नाना, नानी, दादा, दादी आदि किसी से भी मिल सके हैं।

मोटापा कंट्रोल कैसे करे ?

  • एक्सरसाइज करे
  • वॉक करे
  • ठीक ढंग से खाए मतलब चिकनाई वाला खाना, मीठा, फास्टफुड,
  • ड्रिंक्स जैसी चीजे बहुत कम खाएं ।
  • भूखे रहने से कभी कम नहीं होता हैं मोटापा

मोटापे से कोन कोन से रोग होते है ?

  • डायबिटीज
  • ब्लड प्रेशर
  • कोलेस्ट्रॉल का बड़ना
  • रात में सोते टाइम खर्राटे आना
  • किडनी के बीमारी होना
  • नर्वस की बीमारी होना
  • हार्ट अटैक होना
  • जोड़ो में दर्द होना
  • केंसर होना
  • बच्चे पैदा करने में परेशानी होना

मोटापे के लिए कुछ सर्जरी होती हैं |

  • बेरिएट्रिक सर्जरी – यह केवल उन्हीं लोगो के लिए है जिनका वजन बहुत ज्यादा है या जिनका BMI 35 से ज्यादा हैं
    जिनके डायबिटीज है और 30 से ज्यादा BMI हैं।
    3 से 4 तरीके की सर्जरी होती है आप अपने डॉक्टर के पास जाए वो आपकी बॉडी चेक करके बनाएंगे की आपकी बॉडी के लिए कौनसी सर्जरी सबसे सही हैं।
  • सर्जरी के बाद देखभाल कौन सी करें
    किसी भी सर्जरी को हमें नॉर्मल नहीं लेना चाहिए क्योंकि सर्जरी के समय हमारे शरीर में जो बदलाव हुए हैं इसलिए अपनी सर्जरी के बाद भी बहुत ध्यान रखना चाहिए अपनी लाइफ कुछ बदलाव करने पड़ेंगे साथ ही कुछ व्यायाम करे और आप अच्छे खाने की आदत डालें

हिआमा थैरेपी वजन कम करने के लिए

हिजामा थेरेपी बहुत सोच समझ कर करवाने चाहिए हिजामा थेरेपी करवाने से पहले अपना बॉडी चेकअप जरूर करवाएं
किसी को हेपेटाइटिस एचआईवी जैसी बीमारियां हैं तो वहीं हिजामा करने वाले को भी लग सकती हैं |

जैपनीज वॉटर थेरेपी वजन कम करने के लिए

  • इस तरह पर में हमें सुबह उठकर सबसे पहले पानी पीना होगा तो करने से हमारे शरीर के सभी टॉक्सिंस बाहर निकल कर पाचन क्रिया को अच्छी करेंगे।
  • सबसे पहले दिन की शुरुआत ब्रश से करें ब्रश करके कुछ भी खाने से पहले एक गिलास पानी जरूर पिएं
  • हमेशा पानी पीने की आधे घंटे बाद किसी चीज को खाए
  • खाना खाते समय कभी भी बीच में पानी ना पिए
  • खाना खाने के 1 घंटे पहले और खाना खाने के 2 घंटे बाद ही पानी पिए
  • पानी कभी भी एक साथ ना पीकर घूट घूट करके पिए
  • एक गिलास पानी पीने के बाद ही दूसरा गिलास आधे घंटे बाद ही पिए
  • जल्दी और अधिक मात्रा में पानी पीने से पाचन क्रिया और भूख पर बुरा असर पड़ता है ।
  • हमें जापानी लोगों से सीखना चाहिए वह कभी भी खड़े होकर पानी नहीं पीते हैं पानी पीने के लिए हमेशा पहले किसी जगह पर आराम से बैठ जाएं बैठने के बाद ही पानी पिए ।
  • जब खड़े होकर पानी का सेवन किया जाता है तब पानी तेजी से गुर्दे के माध्यम से बिना छने गुजर जाता है इसके कारण मूत्राशय या रात में गंदगी इकट्ठा हो सकती है जिसे मूत्राशय गुर्दे और दिल की बीमारियां होती है ।
  • जापानी नियमों का पालन करके खुद ही कुछ समय बाद अपने शरीर में गजब का फर्क महसूस करेंगे तो देर किस बात की वजन कम करने के लिए आज से ही अपने पानी पीने के तरीके में बदलाव शुरू कर दें ।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,043FansLike
2,874FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles