माता पिता बच्चों की परवरिश कैसे करें | माता पिता बच्चों का पालन पोषण कैसे करें

  • जब हम पहली बार माता पिता बनते है तो सभी के दिमाग यही रहता है की बच्चे की परवरिश कैसे करें। बच्चे का पालन पोषण कैसे करें। जिससे बड़ा होकर वह एक अच्छा इंसान बने। आजकल सभी ने देखा होगा की बच्चे बड़े मां बाप की इज्जत नहीं करते हैं, बड़ो का आदर नहीं करते हैं। इसीलिए इन सभी को देखकर जो पहली बार माता पिता बने है उनको चिंता रहती है की हम अपने बच्चे की परवरिश कैसे करें जिससे बच्चा बड़ा होकर हमारा आदर करेगा, अपने से बड़ो की भी इज्जत करेगा। आइए जानते है माता पिता बच्चों की परवरिश कैसे करें, माता पिता बच्चों का पालन पोषण कैसे करें, माता पिता बच्चों का ध्यान कैसे रखे।

माता पिता बच्चों की परवरिश कैसे करें

  • सभी माता पिता को यही चिंता रहती है की वह अपने बच्चो का ध्यान कैसे रखे जिससे वे अच्छे इंसान बने। इसीलिए हम आपको बता रहे है की बच्चो का पालन पोषण कैसे करें जिससे बच्चा बड़ा होकर अच्छा इंसान बने।

1. बच्चो के आसपास सही माहौल बनाएं

  • बच्चो को सही माहौल में रखना बच्चो की परवरिश करने में जरूरी होता है।
  • सभी माता पिता को इस बात ध्यान रखना चाहिए कि बच्चे के आसपास का माहौल सही हो, खुशी वाला हो, सभी लोग एक दूसरे के साथ प्यार से रहते हो, एक दूसरे का आदर करते हो, सभी लोग अनुशासन से रहते हो।

2. बच्चो को खुश रखने के लिए खुद लड़ाई झगड़ा नहीं करे

  • बच्चे के अच्छे पालन पोषण में बच्चे को खुश रखना भी जरूरी होता है।
  • बच्चे को खुश रखने के लिए घर में सबसे पहले माता पिता को खुश रहना चाहिए, अगर आप खुश रहेंगे तो आपका बच्चा भी खुश रहेगा क्युकी बहुत से घरो में पति पत्नी में आपस में खूब लड़ाई होती रहती है, जिसका दुष्प्रभाव बच्चो के ऊपर पड़ता है, जिसकी वजह से बच्चे की सोच चिड़चिडी हो जाती है।
  • बच्चा भी लड़ाई झगड़ा ही सिखता है। इसीलिए बच्चे की अच्छी परवरिश करने के लिए माता पिता को पहले खुद खुश रहना चाहिए, जिस कारण से उनके बच्चे भी खुश रहेगे।

3. रिश्तो की अहमियत बताते रहना चाहिए

  • माता पिता अपने बच्चे को रिश्तो की अहमियत बताते रहना चाहिए। अगर हम रिश्तों की अहमियत जानते हैं तो हमारा परिवार खुश रहेगा। बच्चो को बड़ो का आदर करना सिखाएं। बच्चो को सभी से प्यार से बोलना सिखाए।
  • रिश्तों की अहमियत बताना जरूरी है क्योंकि इसी से एक खुशहाल संयुक्त परिवार का निर्माण होता है जिसमे सभी एक दूसरे की कद्र और आपस में प्यार करते हैं।

4. बच्चो को अच्छी आदतें सिखाए

  • माता पिता अपने बच्चो को अच्छी आदतें सिखाए। बच्चो को सिखाए की वह सभी के साथ अच्छा व्यवहार करे। हमेशा सत्य बोले, सभी का आदर करे, सभी से प्यार से बोले, दूसरो की मदद करे, अच्छे कार्य करे जिससे माता पिता को उन पर गर्व हो।
  • माता पिता अपने बच्चों को अच्छी बातो के जरिये वे अपने बच्चो की देखभाल और परवरिश अच्छे से कर सकते है।

5. अपने अधूरे सपने बच्चो पर नही थोपे

  • कुछ माता-पिता अपने अधूरे सपने को पूरा करने के चक्कर में बच्चो के ऊपर डाल देते हैं। वे चाहते हैं कि उनके बच्चे वह बनें जो वे खुद नहीं बन पाए।
  • अपने बच्चों के द्वारा अपनी जरूरत पूरी करने की कोशिश में कुछ माता-पिता अपने बच्चों के प्रति बहुत सख्त हो जाते हैं। जिससे बच्चा परेशान हो जाता है।
  • अगर मां बाप के सपने और उसके सपने समान नही है तो वह उनको पूरा नहीं कर पाता है। जिससे वह अपने आपको नाकामयाब इंसान समझने लगता है और कुछ तो डिप्रेशन में पड़ जाते है। इसीलिए अपने सोने नही थोपे, बच्चेको अपने सपने पूरा करने दे।

6. बच्चो के साथ समय बिताए

  • माता पिता अपने बच्चो के साथ समय जरूर बिताए। आजकल हर माता पिता अपने अपने काम में बिजी रहते हैं जिससे अपने बच्चो के लिए समय नहीं निकाल पाते है जिस कारण से उनका बच्चा खुद को अकेला महसूस करने लगता है।
  • उन बच्चो में माता पिता के प्रति गलत धारणा बन जाती है, और उनके मन में हीन भावना उत्पन्न हो जाती है। इसीलिए माता पिता अपने बच्चो के समय निकाले, उनके साथ खेले, उनसे बाते करे, उनकी बात भी सुने।

7. बच्चे वही सीखते हैं जो देखते हैं

  • बच्चे वही सीखते हैं जो देखते हैं इसीलिए माता पिता समझदारी से रहे। माता पिता को अपने बच्चो का रोल मॉडल बनना चाहिए।
  • माता पिता को बच्चो के सामने मोबाईल गेम्स से दूर रहना चाहिए बल्कि किताबे पढ़ने जैसी आदतें डाले, ताकि बच्चे भी आपको देखकर ऐसा ही करे। जिससे बच्चो को मोबाईल से खेलने की आदत नही लगेगी।

8. बच्चो को गलतियों से सिखाए

  • अगर बच्चा कोई गलती करता है तो उसे उस गलती से सिखाए। जिससे आगे जाकर वह फिर से गलती नही करेगा।

9. बच्चो को पढ़ाई की अहमियत समझाए

  • बच्चो को महान आदमी बनाने के लिए उन्हें पढाई की अहमियत समझाए, उन्हें बताए की किस तरह बड़े बड़े महान लोगो ने अपने बचपन में कितना संघर्ष किया था, फिर उन्होंने पढ़ाई और मेहनत की जिससे वे महान पुरुष बने।
  • बच्चो को बताएं कैसे लोग गरीब परिवार में जन्म लेने पर भी पढ़ाई और मेहनत से अमीर और महान आदमी बने हैं। ऐसी बातो से बच्चे जल्दी समझते हैं। जिससे उनके मन में पढ़ाई करने की भावना जागृत होती है।

10. बच्चा किसी काम में फेल हो जाए तो डांटे नही

  • अगर आपका बच्चा पढ़ाई या फिर किसी और काम में फेल हो जाता है तो उसे डांटे नही बल्कि उसका मनोबल बढ़ाए।
  • उसे बताए की वह कुछ भी कर सकता है, एक बार फेल हो गया तो क्या है अगली बार वह जरूर पास हो जायेगा। जिससे बच्चे का मनोबल बढ़ेगा और वह कार्य को अधिक मेहनत से करेगा।

11. बच्चो को नए कार्य के लिए प्रेरित करे

  • माता पिता अपने बच्चों को नए कार्य के लिए प्रेरित करे। वे यह कार्य कर सकते हैं।
  • नए नए कार्य करने से बच्चे का दिमाग बढ़ता है। उसके कार्य करने की क्षमता बढ़ती है। उन्हे अच्छे कार्य करने के लिए प्रेरित जरूर करें।

12. बच्चो को अनुशासन में रहना सिखाएं

  • बच्चो को छोटे से ही अनुशासन में रहना सिखाएं। हम यह सोचते की यह अभी छोटा है बड़ा होकर समझदार बन जाएगा। माता-पिता की यह आदत बच्चों को बिगाड़ देती है। इसीलिए उन्हें शुरू से अनुशासित बनाएं।
  • कुछ पेरेंट्स बच्चों को छोटी-छोटी बातों पर डांटते हैं उन्हें निर्देश देते हैं यह आदत भी माता-पिता की गलत है। डांटने के बजाय बच्चों को प्यार से समझाना चाहिए बच्चे प्यार के तरीके से जल्दी समझते हैं।

13. बच्चों की हर मांग को पूरा नहीं करें

  • बच्चों की सभी मांगों को पूरा नहीं करना चाहिए, हर मांग को पूरा करने से बच्चे जिद्दी हो जाते हैं और कुछ भी चीज के लिए जिद करने लगते हैं।
  • अगर बच्चा बेवजह की जिद करे तो उसको पूरा नहीं करें। उसे प्यार से समझाएं की उनकी मांग जायज है।

14. बच्चों के सामने गलत भाषा ना बोले

  • बच्चे बोलना बड़ो से ही सीखते है। उनके सामने जैसी भाषा बोलेंगे वे वही भाषा सीखेंगे। इसीलिए माता पिता को सोच-समझकर शब्दों का चयन करना चाहिए।
  • आपस में एक दूसरे से ‘आप’ कहकर बात करें। धीरे-धीरे यह चीज़ बच्चे की बोलचाल में आ जाएगी।

Leave a Comment