16.9 C
New York
Wednesday, June 16, 2021

क्या कोरोना पॉजिटिव मां छोटे बच्चे को अपना दूध पिला सकती है?

क्या कोरोना पॉजिटिव मां छोटे बच्चे को अपना दूध पिला सकती है? | दूध पिलाते समय ध्यान रखने योग्य बातें | बच्चे के लिए मां के दूध के फायदे

कोरोना की लहर से सभी लोगो का जीवन खतरे में है। कोरोना से संक्रमित मरीजों का मृत्यु दर बढ़ रहा है। ऐसे में छोटे बच्‍चों की मां बहुत चिंतित है। अगर दूध पिलाने वाली मां को कोरोना हो जाता है तो उनके मन में एक सवाल होता है कि वह अपने बच्‍चे को दूध पिला सकती हैं या नहीं। अगर वह अपना दूध पिलाती हैं तो बच्चे को कोरोना तो नही होगा, बच्चा सुरक्षित रहेगा।

और पढ़ें: – भारत में covid-19 के नए लक्षण

और पढ़ें: – क्या रेमडेसिवीर इंजेक्शन कोरोना का इलाज करता है?

आइए जानते हैं क्या कोरोना पॉजिटिव मां छोटे बच्चे को अपना दूध पिला सकती है?

क्या कोरोना पॉजिटिव मां छोटे बच्चे को अपना दूध पिला सकती है?

  • सभी समझते हैं कि जब बच्चा मां का दूध पिलाती है तो मां का इंफेक्‍शन शिशु में पहुंच सकता है लेकिन WHO के अनुसार मां के दूध में फायदे कोरोना संक्रमण से अधिक महत्वपूर्ण है। कोरोना पॉजिटिव मां को सेफ्टी से अपने बच्चे को दूध पिलाना चाहिए। मां के दूध में पोषक तत्व होते है जो बच्चे के लिए जरूरी होते है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख डॉक्टर टेड्रोस एडहॉनम गीब्रिएसुस का कहना है क‍ि कोरोना पॉज़िटिव मां छोटे बच्चे को अपना दूध पिला सकती है। मां का दूध कोरोना संक्रमण के जोखिम की तुलना अधिक फायदेमंद है।
  • जिस गर्भवती महिला ने बच्चे को जन्म दिया है और उसे कोरोना है तो वह सोचती है कि वह अपने बच्चे को स्तनपान कराएगी तो बच्चे को भी कोरोना हो जाएगा। लेकिन WHO के अनुसार करना पॉजिटिव मां का दूध सेफ है।
  • अब तक मां के दूध में कोरोना वायरस होने का कोई सबूत नहीं मिला है इसलिए सभी मांओं को अपने बच्चे को दूध पिलाने में नही डरना चाहिए। अपने बच्चे को स्तनपान जरूर कराए, मां के दूध से बच्चा कई बीमारियो से बचता है।
  • अगर मां भी कोरोना पॉजिट‍िव है और बच्‍चे का पालन परिवार कर रहा है फिर भी बच्‍चे को मां का ही दूध पिलाना चाहिए। मां का दूध निकालकर चम्मच से भी पिला सकते हैं। मां मास्‍क और ग्‍लव्‍स पहनकर बच्‍चे को दूध पिला सकती है।
  • बच्चे के जन्म के एक घंटे के अन्दर पहला गाढ़ा दूध पिलाना जरूरी होता है क्योंकि वही उसका पहला टीका होता है जो कि कोरोना जैसी कई बीमारियों से बच्चों की रक्षा कर सकता है।
  • मां का दूध बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता हैं और जिनकी प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है उनको कोरोना से आसानी से बचाया जा सकता है।

दूध पिलाते समय ध्यान रखने योग्य बातें

  • मां मास्‍क और ग्‍लव्‍स पहनकर बच्‍चे को दूध पिला सकती है।
  • नवजात शिशु को दूध पिलाने से पहले मां साबुन से अच्छे से हाथ धोये और मुंह पर एन 95 मास्‍क लगाए।
  • बच्चे कि देखभाल कोरोना पॉजिटिव मां नही करे। परिवार में जिसे कोरोना नही है वही बच्चे की देखभाल करे।
  • बच्चे को दूध पिलाते वक्त मां और बच्चे की नज़दीकी से ख़तरा हो सकता है इसीलिए ब्रेस्टफीडिंग के बारे में डॉक्टर से बात करे।
  • रोजाना सभी जगहो को अच्छी तरह से साफ और कीटाणुमुक्त रखे।
  • ब्रेस्ट पंप की मदद से अपना दूध निकालकर चम्मच से या बोतल से परिवार का अन्य सदस्य बच्चे को दूध पिला सकता है।
  • शिशु के फेस के सामने अपना फेस नही रखे, खांसते या छींकते समय फेस को दूर रखे, जिस टिश्यू पेपर को खांसते या छींकते समय उपयोग करते हैं उसे तुरंत ऐसी जगह फेंके जहा उसे कोई छू ना सके। दूध पिलाने के बाद बच्चे को किसी और को दे दे।
  • बच्चे को लेकर घर या अस्पताल कहीं भी जाने पर साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें।
  • बच्चे को छूने से पहले अपने हाथ साबुन से 20 सेकंड तक जरूर धोए, दूध पिलाते समय मास्क जरूर पहने, मां जिस भी वस्तु या जगह को छुए, उसे विसंक्रमित किया जाए।

मां के दूध में पोषक तत्व

  • माँ के दूध में जरूरी पोषक तत्व जैसे खनिज, विटामिन ए, सी एवं डी, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, सोडियम, वसा, एंटीबाडीज होते हैं, जो बच्चे के विकास और स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते है। मां के दूध में पाए जाने वाले पोषक तत्व बच्चे की इम्‍यूनिटी को बढ़ाते हैं। बच्‍चे को खतरनाक संक्रमणों से बचा सकते है।

बच्चे के लिए मां के दूध के फायदे

  • माँ के दूध में पाए जाने वाले प्रोटीन, विटामिन, कैल्शियम आदि तत्व बच्चे के शारीरिक विकास में मदद करते हैं।
  • माँ के दूध से शिशु की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं।
  • बच्चे का पाचन तंत्र सही रहता है और पेट संबंधी परेशानियां भी कम होती है।
  • मां के दूध से शिशु का मानसिक विकास होता है।
  • माँ का दूध सुरक्षित होता है इसलिए बच्चों में एलर्जी की संभावना कम होती है।
  • माँ के दूध में मौजूद कैल्शियम शिशु की हड्डियों को मजबूत करता है।
  • मां का दूध भारी नही होता है जिसे शिशु आसानी से पचा लेता है।
  • माँ का दूध, बच्चे के लिए सम्पूर्ण आहार माना जाता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,043FansLike
2,811FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles