25.2 C
New York
Thursday, July 29, 2021

Jasmine Rice in Hindi | Jasmine Rice ke Fayde

जैसमिन चावल और सफेद चावल में अंतर | जैसमिन चावल और बासमती चावल में अंतर | जैसमिन चावल के फायदे | जैसमिन चावल कैसे पकाए | How to cook jasmine rice in Hindi | jasmine rice recipe

भारत में गेहूं के बाद चावल सबसे ज्यादा खाने वाला खाद्य पदार्थ है। चावल दुनिया भर के लाखों लोगों के लिए ऊर्जा का एक प्रमुख स्रोत है। चावल सभी के घरों का बेस्ट भोजन है। इससे अनेक व्यंजन बनते हैं। चावल कई प्रकार के होते है जिनमे से एक जैसमिन चावल भी है। सभी प्रकार के चावल का स्वाद, बनावट और गुण अलग होते हैं।

जैसमिन चावल

जैसमिन चावल मुख्य रूप से थाईलैंड, कंबोडिया, लाओस और दक्षिणी वियतनाम में उगाया जाता है। यह पक जाने के बाद इसके दाने चिपक जाते हैं और यह नरम होता है, इसका स्वाद थोड़ा मीठा मीठा होता। यह लंबे वाले चावल की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक चिपचिपा होता है। जैसमिन चावल सबसे अधिक नरम होता है, इसलिए इसे पकाने के लिए बाकी सफेद चावल की तुलना में कम पानी की आवश्यकता होती है, इसलिए फूला हुआ होता है। 1 कप जैसमिन चावल को पालने के लिए केवल 1 1/4 कप पानी का प्रयोग करते है (सामान्य सफेद चावल के लिए 1 1/2 कप पानी से 1 कप चावल है)।

जैसमिन चावल की किस्में ( जैसमिन चावल के प्रकार )

जैसमिन चावल कई किस्में होती है जैसे सफेद जैसमिन चावल, ब्राउन जैसमिन चावल, काली, लाल, बैंगनी जैसमिन चावल की किस्में भी होती है।
ब्राउन जैसमिन चावल में सफेद जैसमिन चावल की तुलना में अधिक पोषक तत्व होते हैं, ब्राउन जैसमिन चावल स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। ब्राउन जैसमिन चावल में विटामिन ए, विटामिन बी और बीटा-कैरोटीन, एंटीऑक्सिडेंट होते हैं। इसका ओट्स की तरह स्वाद होता है। इसके सेवन से रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल कम हो सकता है।

ब्राउन जैसमिन चावल में पोषक तत्व

एक कप जैसमिन चावल में पोषक तत्व

कैलोरी160
प्रोटीन4 ग्राम
वसा1.5 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट35 ग्राम
कार्ब्स38 ग्राम
फाइबर2 ग्राम
आयरन2%
विटामिन बी10%
विटामिन बी 315%
  • लाल, बैंगनी और काले जैसमिन चावल में भी फाइटोन्यूट्रिएंट्स की अलग-अलग मात्रा होती है।
  • इन किस्मों में भी एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कोशिकाओं को होने वाली क्षति से बचाने में मदद करते हैं।
  • सफेद जैसमिन चावल में भी पोषक तत्व पाए जाते हैं लेकिन ब्राउन जैसमिन चावल की तुलना में कम होते हैं।

जैसमिन चावल के फायदे

जैसमिन चावल के सेवन से कई फायदे होते हैं। इसका सेवन हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होता है।

शरीर की कोशिकाओं की रक्षा करता है

जैसमिन चावल की सभी किस्मों में फाइटोन्यूट्रिएंट्स होता हैं। जिससे शरीर की कोशिकाओं की रक्षा करने में मदद होती हैं। जेसमीन चावल प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत बनाते हैं।

गर्भावस्था में फायदेमंद है

  • जैसमिन चावल में फोलिक एसिड भरपूर मात्रा पाया जाता है। जो गर्भावस्था में फायदेमंद होता है। खासकर जब गर्भावस्था में पहली तिमाही के भीतर इसका सेवन किया जाता है। गर्भ धारण करने की कोशिश करते समय जैसमिन चावल बहुत फायदेमंद होता है।

पाचन को मजबूत करता है

ब्राउन जैसमिन चावल में सफेद जैसमिन चावल की तुलना में फाइबर अधिक होता है। इसमें फाइबर और पोषक तत्व भरपूर होते हैं। फाइबर से मल त्याग सही होता है और आपके पाचन शक्ति बढ़ती है।

जैसमिन चावल के नुकसान

  • ब्राउन जैस्मीन चावल भी आपके रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा सकता है, जिससे टाइप II मधुमेह के मरीजों के लिए नुकसान दायक हो सकता है।
  • आर्सेनिक धातु अधिक होता है जो मिट्टी, चट्टान और पानी में पाई जाती है। जिससे यह बच्चों के लिए से खतरनाक हो सकता है। इसीलिए चावल को पकाने से पहले अच्छी तरह धो लें।

जैसमिन चावल कैसे पकाए

एक पैन में एक कप चावल के साथ तीन कप पानी डालें और ढक्कन लगा दें। चावल को और 9 से 10 मिनट तक उबलने दें, जब तक कि सारा पानी सोख न ले। आँच बंद कर दें, और ढक्कन को लगभग 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर ढक्कन को खोलें और चावल को कांटे से फुलाएं। चावल अब परोसने के लिए तैयार है।
चावल को बहुत अधिक पानी के साथ नही पकाए वर्ना ये टूट जायेंगे। चावल में सही तरह पानी डालना जरुरी है तभी अच्छे से चावल बनकर तैयार होंगे।

जैसमिन चावल और बासमती चावल में अंतर

चावल आमतौर पर मध्य पूर्वी और भारतीय व्यंजनों में उपयोग किए जाते हैं। जैसमिन चावल और बासमती चावल दोनों सुगंधित होते हैं। लेकिन दोनो प्रकार के चावलों मे कुछ अंतर हैं जिनके बारे में हमे पता होना चाहिए।

जैसमिन चावल

जैसमिन चावल मूल रूप से थाईलैंड का है और इसका सेवन ज्यादातर दक्षिण पूर्व एशियाई किया जाता है। यह चावल लंबा होता है लेकिन बासमती चावल की तुलना में इसके दाने एलछोटे और मोटे होते हैं। जिसमें पकने के बाद सूक्ष्म पुष्प सुगंध आती है नरम और मीठा, चिपचिपा होता है। जैसमिन चावल पारंपरिक रूप से भाप या अवशोषण विधि द्वारा पकाया जाता है। जैसमिन चावल सबसे अधिक नरम होता है, इसलिए इसे पकाने के लिए बासमती चावल की तुलना में कम पानी की आवश्यकता होती ह

बासमती चावल

बासमती चावल का उत्पादन उत्तरी भारत और पाकिस्तान में हिमालय की तलहटी में होता है। यू.एस. में भी इसकी कुछ किस्में उगाई जाती हैं। यह चावल लंबा होता है। बासमती चावल का सेवन ज्यादातर भारतीय, मध्य पूर्वी इलाके में किया जाता है। बासमती चावल पकाने से पहले कम से कम 30 मिनट के लिए भिगोते है। बासमती चावल को पानी में उबालकर पकाया जाता है। बासमती चावल किसी भी किराने की दुकानों पर मिल जाता है। यह सफेद और भूरे दोनों किस्मों में मिल जाता है।

जैसमिन चावल और सफेद चावल में अंतर

100 से अधिक देशों में चावल पोषण का प्रमुख स्रोत हैं। चावल कई प्रकार के होते हैं जैसे जैसमिन चावल और सफेद चावल। इनमे अनेक अंतर होते हैं।

पोषक तत्वों में अंतर

140 ग्राम जैसमिन चावल और सफेद चावल में पोषक तत्व

कैलोरीजैसमिन चावल में 181सफेद चावल में 160
वसाजैसमिन चावल में 1 ग्रामसफेद चावल में 0 ग्राम
प्रोटीनजैसमिन चावल में 4 ग्रामसफेद चावल में भी 4 ग्राम
कार्ब्सजैसमिन चावल में 39 ग्रामसफेद चावल में 36 ग्राम
फाइबरजैसमिन चावल में 1 ग्रामसफेद चावल में 1 ग्राम
केल्शियमजैसमिन चावल में 2%सफेद चावल में 2%

रंग में अंतर

  • सफेद चावल हमेशा सफेद होता है, लेकिन जैसमिन चावल सफेद, भूरा, लाल, बैंगनी या काला होता है।

बनावट में अंतर

  • जैसमिन चावल मुख्य रूप से दक्षिण पूर्व एशिया, मूल रूप से थाईलैंड का है। जैसमिन चावल में पकने के बाद सूक्ष्म पुष्प सुगंध आती है नरम और मीठा, चिपचिपा होता है। यह पारंपरिक रूप से भाप या अवशोषण विधि द्वारा पकाया जाता है।
  • सफेद चावल की स्थिरता बहुत भिन्न होती है। इसमें सुगंध नही आती है। यह चिपचिपा चावल, जो आमतौर पर एशियाई मिठाइयों में उपयोग किया जाता है, बहुत चिपचिपा होता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,043FansLike
2,874FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles