Immunity Booster Food | immunity system | what is immune system | how to increase immunity home remedies | इम्यून सिस्टम सही होने के लक्षण | immunity booster foods in india hindi

एक मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता(immune system) हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती है। इसीलिए हमें पोष्टिक भोजन ही लेना चाहिए।

रोग प्रतिरोधक क्षमता में अंग, कोशिका, ऊतक और प्रोटीन होते हैं। जो रोगों से लड़ते हैं, जो वायरस, बैक्टीरिया और विदेशी निकायों हैं जो संक्रमण या बीमारी का कारण बनते हैं।

आओ चलो Immunity Booster Food | इम्यून सिस्टम सही होने के लक्षण के बारे में विस्तार से चर्चा करते है |

immunity booster foods in india hindi

भोजन में पोष्टिक खाद्य पदार्थों को शामिल करने से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो जाती है।
आइए जानते है रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के खाद्य पदार्थ कोन कोन से है

और पढ़ें: रोग प्रतिरोधक क्षमता क्या है?

क्या है इम्यूनिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय ?
इम्यूनिटी बूस्टर ड्रिंक कोनसी होती है ?
हर्ड इम्यूनिटी क्या होती हैं ?

1. खट्टे फल

  • ठंड लगने के बाद ज्यादातर लोग विटामिन सी का सेवन करने लग जाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है।
  • विटामिन C सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाने के लिए माना जाता है, जो संक्रमण से लड़ने में महत्वपूर्ण होता हैं।
  • लगभग सभी खट्टे फल विटामिन सी में अच्छे होते हैं, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए फायदेमंद होते हैं।
  • आपका शरीर विटामिन सी का उत्पादन या भंडारण नहीं करता है, आपको हमेशा स्वस्थ्य रहने के लिए विटामिन सी का सेवन करना आवश्यक होता है। 

कुछ लोकप्रिय खट्टे फल है जैसे –

  1. चकोतरा
  2. संतरे
  3. कीनू
  4. नींबू
  5. सी-बकथॉर्न

 2. ब्रोकली

  • ब्रोकोली में विटामिन और खनिज पाए जाते है। विटामिन ए, सी, और ई के साथ-साथ फाइबर और कई अन्य एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते है, ब्रोकोली सबसे स्वस्थ सब्जियों में से एक हैं। यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में बेस्ट है।
  • ब्रोकली को कम से कम पकाना चाहिए ताकि इसके पोषक तत्व नष्ट नहीं हो।

3. लहसुन

  • प्रारंभिक सभ्यताओं ने भी संक्रमण से लड़ने में इसके मूल्य को मान्यता दी। यह निम्न रक्तचाप ( Low blood pressure ) में मदद करता है।
  • लहसुन में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले गुण सल्फर युक्त यौगिकों ( Compound ) जैसे- एलिसिन भारी मात्रा में पाए जाते हैं।
  • पुरुषों के लिए लहसुन जितना फायदेमंद होता है, उतना ही इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए भी इसका सेवन किया जाता है। यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसके लिए आप सुबह रोज दो कच्चे लहसुन का भी सेवन कर सकते हैं जो आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने में मददगार साबित होता है।
Immunity Booster Food

4. अदरक

  • बीमार होने पर अदरक भी बहुत काम आती है। अदरक सूजन को कम करने में मदद करता है, जो गले में खराश और सूजन संबंधी बीमारियों को कम करने में मदद करता है।
  • अदरक भी पुराने दर्द को कम करता है। यहां तक कि कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले गुण भी होते हैं।

 5. पालक

  • पालक न केवल विटामिन सी से भरपूर होता है इसमें एंटीऑक्सिडेंट और बीटा कैरोटीन भी होता है, ये दोनों हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है संक्रमण से लड़ने में।
  • ब्रोकोली के समान, पालक तब तक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है जब तक कि यह कम से कम पकाया जाता है ताकि इसके पोषक तत्व नष्ट नहीं हो हालांकि, हल्का खाना पकाने से विटामिन ए को अवशोषित करना आसान हो जाता है और अन्य पोषक तत्वों को ऑक्सालिक एसिड, एक एंटीन्यूट्रिएंट से जारी करने की अनुमति मिलती है।

 6. दही

  • दही बीमारियों से लड़ने में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। दही का सेवन चीनी के साथ करने के बजाय स्वस्थ फलों और शहद की एक बूंद के साथ कर सकते हैं।
  • दही भी विटामिन डी का एक बड़ा स्रोत होता है, विटामिन डी रोग प्रतिरोधक क्षमता को विनियमित करने में मदद करता है और हमारे शरीर को बीमारियों के खिलाफ प्राकृतिक सुरक्षा को बढ़ावा देता है।

 7. बादाम

  • बादाम में एंटीऑक्सिडेंट तत्व पाया जाता है यह वसा में घुलनशील विटामिन है, जिसका अर्थ है कि इसमें वसा की उपस्थिति को ठीक से अवशोषित करने की आवश्यकता होती है।
  • वयस्कों को प्रत्येक दिन केवल 15 मिलीग्राम विटामिन ई की आवश्यकता होती है।

 8. सूरजमुखी के बीज

  • सूरजमुखी के बीज पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं, जिनमें फास्फोरस, मैग्नीशियम, और विटामिन बी -6 और ई शामिल हैं।
  • विटामिन ई रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखने में महत्वपूर्ण है। विटामिन ई की उच्च मात्रा वाले अन्य खाद्य पदार्थों में एवोकाडो और हरे पत्तेदार साग शामिल हैं।
  • सूरजमुखी के बीज भी सेलेनियम ज्यादा होता हैं। सिर्फ 1 औंस में लगभग आधा जमा स्रोत होता है सेलेनियम का ओसत जो हमे दैनिक रूप से चाहिए।

9. हल्दी

  • हल्दी एक पीला मसाला है जिसे बहुत से लोग खाना बनाने में इस्तेमाल करते हैं। यह कुछ वैकल्पिक दवाओं में भी मौजूद है। हल्दी का सेवन करने से व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर हो जाती है। हल्दी में एक यौगिक ( Compound ) करक्यूमिन के गुणों के कारण होता है।
  • रिसर्च में पता चला है कि कर्क्यूमिन की उच्च सांद्रता, जो हल्दी को अपना विशिष्ट रंग देती है, व्यायाम करने पर जब मांसपेशियों को क्षति होती है तो उसको कम करने में मदद करती है।

 10. हरी चाय

  • हरी और काली चाय दोनों को फ्लेवोनोइड, एक प्रकार के एंटीऑक्सिडेंट तत्व पाया जाते है। ग्रीन टी शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में मदद करती हैं।
  • ग्रीन टी भी एमिनो एसिड L-theanine का अच्छा स्रोत है। L-theanine आपकी कोशिकाओं में रोगाणु-लड़ने वाले यौगिकों के उत्पादन में सहायता करती है।

11. पपीता

  • पपीता विटामिन सी से भरा एक और फल है। आप एक ही फल खाने से अपने शरीर में विटामिन सी की मात्रा को दोगुना कर सकते हैं। पपीते में पपैन नामक एक पाचक एंजाइम भी होता है जिसमें सूजन दूर करने के गुण होते हैं |
  • पपीते में पोटैशियम, मैग्नीशियम और फोलेट की अच्छी मात्रा होती है, जो आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हैं।

 12. चिकन

  • जब हम बीमार होते है तब हम चिकन सूप भी ले सकते है, सूप हमारी सूजन में मदद करता है, यह सर्दी के लक्षणों में भी सुधार करता है।
  • मुर्गी, टर्की और कुक्कुट विटामिन बी -6 में उच्च होते हैं।
  • विटामिन बी -6 शरीर में होने वाली कई रासायनिक प्रतिक्रियाओं में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी है। यह नई और स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए भी महत्वपूर्ण है।
  • चिकन की हड्डियों को उबालकर बनाया गया स्टॉक या शोरबा में जिलेटिन, चोंड्रोइटिन और अन्य पोषक तत्व होते हैं, जो आंत की जलन और प्रतिरोधक क्षमता के लिए सहायक होते हैं।

13. ब्लूबेरी

  • ब्लूबेरी में एक प्रकार का फ्लेवोनोइड होता है जिसे एंथोसायनिन कहा जाता है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो किसी व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। 2016 के एक अध्ययन में यह पता चला है कि फ्लेवोनॉयड्स श्वसन पथ की प्रतिरक्षा रक्षा प्रणाली में एक आवश्यक भूमिका निभाते हैं।
  • शोधकर्ताओं ने पाया कि जिन लोगों ने फ्लेवोनॉयड्स से भरपूर खाद्य पदार्थ खाए थे, उनमें उन लोगों की तुलना में ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण, या सामान्य सर्दी होने की संभावना कम थी।

इम्यून सिस्टम सही होने के लक्षण

जो शरीर अंदर से साफ होगा उसमें ज्यादा इम्युनिटी होगी। इसको हम एक उदाहरण से समझते हैं। आप सोचिए कि दो कचरादान है एक बिल्कुल खाली और दूसरे में कचरा भरा हुआ है। आपको क्या लगता है कि कीटाणु किस कचरादान को अपना घर बनाएंगे। जाहिर सी बात है को उस कचरादान में आएंगे जिसमे कचरा भरा हुआ है। कुछ ऐसा ही हमारी बॉडी में होता है जब हम गलत खाना खाते है और जब हम हमेशा ही खाते रहते हैं। तो शरीर अंदर से गंदा हो जाता है जो शरीर अंदर से गंदा होगा वी ऑटोमेटिक्ली कीटाणुओं को अट्रैक्ट करेगा। और जो शरीर अंदर से साफ होगा उसमे कीटाणु आएंगे ही नहीं, अगर आपके शरीर में गंदगी नहीं है तो उसने कीटाणु आएंगे ही नहीं। अगर आपके शरीर में गंदगी नहीं है तो इम्युनिटी ऑटोमेटिक्ली ज्यादा होगी।

अब आप सोचेंगे की मुझे कैसे पता चलेगा की मेरी इम्युनिटी अच्छी है या नहीं।

हम बताते हैं अच्छी इम्युनिटी के लक्षण

1. रोज पेट साफ़ होना

कम से कम दिन में एक बार पेट साफ़ होना चाहिए बिना किसी गोली या चूर्ण के। पेट साफ नहीं होगा तो हमारे शरीर में गंदगी जम जाएंगी तो इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाएगा।

2. ज्यादा वजन नहीं होना

हमारा वजन जरूरत से ज्यादा नहीं होना चाहिए। अगर जरूरत से ज्यादा है तो हमारे शरीर में गंदगी जमी है जो हमारी इम्युनिटी के लिए सही नहीं है।

3. त्वचा साफ होनी चाहिए

हमारी त्वचा साफ होनी चाहिए। हमारी त्वचा हमारे शरीर के अंदर का शीशा है हमे acne, spots, rashes  तब होते हैं जब हमारा ब्लड साफ नहीं होता, जब ब्लड में गंदगी जमी होती है। अगर आपकी त्वचा बिल्कुल साफ है तो समझे की आपका ब्लड भी साफ है मतलब आपकी इम्युनिटी सही है।

4. आलस्य नहीं आना

जिन लोगों को आलस्य नहीं आता है उनकी इम्युनिटी सही होती है।

5. तेज भूख का अनुभव होना

कुछ लोगों को तेज भूख नहीं लगती हमेशा पेट भरा सा रहता है। इसका मतलब उनकी इम्युनिटी कमजोर है जिससे उनका खाना पचता नहीं है। जिन लोगो को तेज भूख का अनुभव होता है उनकी इम्युनिटी सही होती हैं।

6. गहरी नींद आना

इम्युनिटी सही होने का लक्षण गहरी नींद आना भी है। गहरी नींद वो होती हैं रात लेटते ही पाच मिनट में नींद आ जाती है और सीधे सुबह ही नींद खुलती हैं।

7. किसी भी अंग में दर्द नहीं होना

इम्युनिटी सही होने का लक्षण किसी भी अंग में दर्द नहीं होना भी है। कुछ लोगों के शरीर के कभी किसी तो कभी किसी अंग में दर्द होता रहता है ऐसा नहीं होना चाहिए। इसका मतलब आपकी इम्युनिटी सही नहीं है।

और पढ़ें:– मधुमेह क्या है?

अस्थमा क्या है?

Egg Benefits For Hair In Hindi

आपको Immunity Booster Food | इम्यून सिस्टम सही होने के लक्षण यह जानकारी कैसी लगी कमेंट बॉक्स ने लिखकर जरूर बताए | कोई जानकारी रह गई और आपके कोई प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें हम जल्द से जल्द आपको जवाब देने की कोशिश करेंगे।
अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगे और आपको ऐसी जानकारी पड़ना और अपनी नॉलेज को बढ़ाना चाहते हो तो दिए गए न्यूज़लैटर बॉक्स में अपनी डिटेल भरकर सब्सक्राइब करे
जिससे आपको ई- मेल के जरिए समय – समय नई जानकारी के लिए अपडेट कर सके धन्यवाद।

Show 5 Comments

5 Comments

  1. Pramod Jangid

    Thank You So much Dear
    Please Regularly Visit For New health Information

    • Pramod Jangid

      Thank You So Much For Appreciation
      Please Visit Regularly Our Blog For Health Information.

  2. Hey! Would you mind if I share your blog with my myspace group?
    There’s a lot of people that I think would really appreciate your content.
    Please let me know. Many thanks

    • Pramod Jangid

      Thank you !
      You can share but there should be no policy violations.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *