हृदय स्पंदन क्या है, प्लस रेट हार्ट रेट में अंतर, नार्मल हार्ट रेट, लक्षण, मेडिसिन

हृदय स्पंदन क्या है?

  • धकड़न को हृदय स्पंदन बोलते है। मानव के शरीर में लगभग 5 से 6 लीटर खून होता है। खून हृदय के माध्यम से पूरे शरीर में पंप किया जाता है।
  • हृदय के सिकुड़ने को संकुचन तथा फैलने को अनुशिथिलन कहते हैं। हृदय के संकुचन तथा अनुशिथिलन के समय जो आवाज होती हैं उसे धकड़न या हृदय स्पंदन कहा जाता है।
  • युवा पुरुषो के ह्रदय का वजन 250 से 390 ग्राम होता है और युवा महिलाओं के ह्रदय का वजन 200 से 275 ग्राम के बीच होता है।

मानव में हृदय स्पंदन या धड़कन

  • मानव का ह्रदय 75 बार प्रति मिनट धड़कता है। धड़कन की गति कम या ज्यादा हो जाती है।
  • पुरुषो के बजाय स्त्रियों का ह्रदय अधिक बार धड़कता है। बच्चो और नवजात शिशुओ का ह्रदय भी अधिक बार धड़कता है।
  • बुजुर्गो में ह्रदय धड़कन कम होती है, क्योंकि न्यूरॉन्स डीजनरेट होने लगते हैं।
  • जानवरो में ह्रदय धड़कन उनके शरीर के साइज के अनुसार होती है। जिन जानवरो का शरीर बड़ा होता है उनमें ह्रदय धड़कन कम होती है और छोटे साइज के जानवरो की ह्रदय धड़कन अधिक होती है।
  • हृदय दो भागो में बटा होता है दोनो का एक दूसरे से कोई संबंध नहीं होता है।
  • हृदय का दाया भाग अशुद्ध खून का आदान प्रदान करता है तथा बाया भाग शुद्ध खून का आदान प्रदान करता है।
  • हृदय का बैटरी बाग चार भागों में बटा होता है।
  • हृदय के बाई तरफ के ऊपरी भाग को बाया अलिंद कहते हैं और निचले भाग को बाई निलय कहते हैं। इसके दाएं और ऊपरी भाग को दाया अलिंद कहते हैं और निचले भाग को ने दाया निलय कहते हैं। इन चारों भागो का काम अलग अलग होता है जो इस प्रकार है
हृदय स्पंदन क्या है

दाया अलिंद का कार्य

  • अशुद्ध खून पूरे शरीर से घूमकर दाए आलिंद मे आकर जमा होता है, इस तरह दाए आलिंद का कार्य सिर्फ अशुद्ध रक्त को लेना होता है।
  • खून को छोड़ने का कार्य बहुत कम होता है। इसीलिए इसमें संकुचन बहुत कम होता है जिसकी वजह से इसकी भिट्टिया कमजोर और पतली होती है।

दाए निलय का कार्य

  • अशुद्ध रक्त दाए अलिंद से निकलकर दाए एट्रीयोवेंद्रीकुलर छिद्र से निकलकर दाए निलय आता है।
  • दाए निलय में छिद्र होता है जिसे फुफ्फुसीय धमनी बोलते हैं। इससे होकर फुफ्फुसीय धमनी निकलती है। फुफ्फुसीय धमनी के अलावा सभी धमनियों में शुद्ध खून होता है।

बाए अलिंद का कार्य

  • यह दाए आलिंद से छोटा होता है इसमें ऑक्सीजन युक्त शुद्ध खून आता है।

बाए निलय का कार्य

  • यह सबसे बड़ा होता है, इसमें एक छिद्र होता है जिसे महाधमनी छिद्र बोलते हैं। इस छिद्र से निकलकर महाधमनी शरीर के अलग अलग भागो में रक्त को पहुंचाती है।

Leave a Comment