Eight month Pregnency in Hindi | गर्भावस्था के आठवें महीने में देखभाल | प्रेगनेंसी के 8 महीने में क्या क्या सावधानी रखे | पिता के लिए टिप्स | Eight month Pregnency in Hindi | गर्भावस्था के आठवें महीने में देखभाल

Contents hide

आठवे महीने में शिशु का शारीरिक विकास

  • इस महीने तक शिशु का काफी विकास हो जाता है। फेफड़े अधिक विकसित हो जाते हैं।
  • इस महीने तक शिशु के सिर पर बाल आ जाते हैं।
  • शिशु के मस्तिष्क को विकास इस महीने से तेजी से शुरू हो जाता है। इस दौरान न्युरोंज तेजी से बढ़ते हैं।
  • अगर गर्भ में लड़का है तो जननांग का बाहर की और विकास शुरू हो जाएगा और अगर लड़की है तो इस महीने तक योनि का विकास हो जाता है।
  • आठवें महीने यानी 30 वे सप्ताह तक शिशु की लंबाई 14 इंच के आसपास हो जाती है और वजन 1133 ग्राम के आसपास हो जाता है।

Tips for Normal Delivery

और पढ़ें:– 7th Month Pregnancy Care in Hindi

और पढ़ें:–6 Month Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के आठवें महीने के लक्षण

1. सांस फूलने लगती है

  • जैसे जैसे गर्भाशय बढ़ता है फेफड़े सिकुड़ने लगते हैं। इस वजह से गर्भवती को सांस फूलने की समस्या होने लगती है।
  • इस समस्या से गर्भवती को शिशु के स्वास्थ्य को लेकर घबराना नहीं चाहिए।
  • प्लेसेंटा के जरिए शिशु को गर्भ में पर्याप्त रूप से ऑक्सिजन मिलती है। शिशु ठीक से सांस ले पाता है।

2. पीठ दर्द

  • गर्भाशय बढ़ने के कारण अक्सर गर्भवती को पीठ दर्द की समस्या से जूझते पाया है।

3. स्तनों से रिसाव

  • गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में स्तनों से गाढ़ा और पीले रंग का स्त्राव निकलने लगता है जिसे कोलोस्ट्रम कहते हैं।
  • दिन में किसी भी समय यह रिसाव हो सकता है। जैसे जैसे प्रसव का समय आता है यह रंगहीन होने लगता है।

4. ब्रेक्सटन हिक्स

  • ब्रेक्सटन हिक्स सातवें महीने से शुरू होती है और आठवें महीने में भी जारी रहती है।
  • आपको गर्भाशय की मांसपेशियों में कसाव होगा। यह 30 सैकंड से एक मिनट तक हो सकता है।

5. बवासीर

  • कई गर्भवती महिलाओं को कब्ज के कारण आठवें महीने में बवासीर हो जाता है।
  • इसके अलावा बढ़ते गर्भाशय के कारण नीचे की नसों में सूजन आ जाता है जिससे बवासीर होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • लक्षणों के बारे मे और ज्यादा जानने के लिए हमारी पिछली पोस्ट कृपा करके जरूर पढ़े।

और पढ़ें:– 4th Month of Pregnancy in Hindi

और पढ़ें:–5 Month Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के इस नाजुक दौर में किन किन बातो का ध्यान रखे

  • गर्भावस्था का आखरी समय काफी नाजुक होता है। इसीलिए इस दौरान गर्भवती की अच्छे से देखभाल जरूरी है।
  • गर्भवती महिला की जीवनशैली कैसी है उसका खानपान कैसा है इसका असर सिदा शिशु पर जाता है।
  • इसलिए गर्भवती महिला की देखभाल जरूरी है।

गर्भावस्था के आठवें महीने में क्या खाए

1. विटामिन और खनिज से भरपूर खाद्य पदार्थ

  • गर्भवती महिला को विटामिन और खनिज से भरपूर खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए।
  • आयरन और केल्शियम का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें क्योंकि डिलीवरी के दौरान खून बहता है और खून कि कमी नहीं हो।
  • आपको हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स और डेयरी उत्पाद खानपान में शामिल करने चाहिए।

2 .कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा से युक्त खाद्य पदार्थ

  • प्रेग्नेंसी के दौरान कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा से युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए।
  • इसके लिए बीन्स, मीट, टोफू, चिकन, दूध, अंडा, सोया मिल्क, आलू, शकरकंद, सूखे मेवे का सेवन करें।

3. फाइबर युक्त भोजन

  • गर्भावस्था के इस महीने में फाइबर युक्त भोजन जरूरी होता है।
  • इससे आपको कब्ज की समस्या से राहत मिलती है।
  • इसके लिए आप ओट्स, फल, गेहूं के आटे को ब्रेड, एवोकाडो और हरी सब्जियों का सेवन करें।
  • और ज्यादा जानने के लिए हमारी पिछली पोस्ट कृपा करके जरूर पढ़े।

गर्भावस्था के दौरान होने वाले पिता की जिम्मेदारी

1. बच्चे के भविष्य कि योजना बनाए

  • आप अभी से ही अपने होने वाले बच्चे के भविष्य कि योजना बनानी शुरू कर दे।
  • बच्चे के भविष्य के लिए कैसे कैसे पैसों की बचत करनी है। उसके बारे मे सोचना शुरू कर दे।

2. गर्भवती का हौसला बढ़ाए

  • जब समय नजदीक आता जाता है गर्भवती के मन में घबराहट बढ़ती जाती है।
  • ऐसे में पति को उनका हौसला बढ़ाना चाहिए। कुछ महीनों के बाद ही महिला में बदलाव होना शुरू हो जाते हैं।
  • पति को गर्भवती को प्यार व धेर्ये से समझाना चाहिए।

3. घर के कामो में गर्भवती की मदद करे

  • प्रेग्नेंसी में आराम की ज्यादा जरूरत होती है।
  • पति को घर के कामो में गर्भवती की मदद करनी चाहिए।

4. पत्नी के साथ डॉक्टर के पास जाए

  • गर्भावस्था के दौरान गर्भवती को समय समय पर डॉक्टर पास चैकअप के लिए ले जाए।
  • इससे महिला को बेहद अच्छा महसूस होता है।

5. थकान होने पर मसाज करें

  • गर्भावस्था के समय गर्भवती के पैर, कमर, पीठ में दर्द होता है जिससे वह सो नहीं पाती है।
  • ऐसे में गर्भवती की हल्के हाथो से मसाज करनी चाहिए।

आपको Eight month Pregnency in Hindi | गर्भावस्था के आठवें महीने में देखभाल यह जानकारी कैसी लगी कमेंट बॉक्स ने लिखकर जरूर बताए | कोई जानकारी रह गई और आपके कोई प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें हम जल्द से जल्द आपको जवाब देने की कोशिश करेंगे।
अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगे और आपको ऐसी जानकारी पड़ना और अपनी नॉलेज को बढ़ाना चाहते हो तो दिए गए न्यूज़लैटर बॉक्स में अपनी डिटेल भरकर सब्सक्राइब करे और दिए गए Bell Icon को जरूर दबाए
जिससे आपको ई- मेल और
Mobile Notification के जरिए समय – समय नई जानकारी के लिए अपडेट कर सके धन्यवाद।

Show 1 Comment

1 Comment

  1. Rajat

    doctors can increase your lab website ranking on google

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *