16.9 C
New York
Wednesday, June 16, 2021

25 बलगम का घरेलू उपाय | बलगम जमने के लक्षण

बलगम जमने के लक्षण | बलगम का घरेलू उपचार | बलगम जमने के लक्षण | कफ (बलगम) आने पर क्या नही खाना चाहिए | गले में बलगम का घरेलू उपाय | 25 बलगम का घरेलू उपाय

सर्दियों के मौसम में ज्यादातर लोग सर्दी, जुकाम, बुखार से परेशान रहते है। जिससे उन्हें कफ ( बलगम ) की समस्या भी हो जाती है। अगर इसका समय पर इलाज नही हुआ तो इससे ब्रांकाई (Bronchial) ट्यूब बंद हो सकती है।
बलगम वाली खांसी में बार-बार कफ बनता रहता है। जिससे सांस लेने में दिक्कत आना, छाती में भारीपन, कमजोरी आदि कई समस्याएं होती हैं।
गले में इंफेक्‍शन होने पर भी बलगम वाली खांसी हो सकती है। अगर समय रहते हुए इलाज नही हुआ तो यह छाती में जम जाता है और कई बीमारियां हो सकती हैं। इसीलिए इसका इलाज समय पर कराए। कफ से छुटकारा पाने के कुछ घरेलू उपाय भी है जिनसे हम कफ से छुटकारा पा सकते हैं।

और पढ़ें: – 20 काली चेरी के फायदे और नुकसान

और पढ़ें: – हड्डी को मजबूत कैसे करे

Contents hide

बलगम जमने के लक्षण

  1. गले या छाती में कुछ जमा हुआ महसूस होना।
  2. छाती में भारीपन महसूस होना।
  3. सांस लेने में दिक्कत होना।
  4. नाक बहना और बुखार होना।
  5. खांसी के समय छाती के दर्द होना।
  6. गले में घरघराहट महसूस होना।
  7. यह समस्या अधिक बढ़ जाती हैं तो सिर दर्द भी होने लगता है।
  8. खांसी के साथ बलगम का आना।
  9. कमजोरी होना, नींद नहीं आना।
  10. खांसी ज्यादा होने पर खून भी आने लगता है
  11. बलगम की समस्या शुरुआत में अधिक खतरनाक नही होती है लेकिन यह अधिक समय तक जमा रहे तो कई बीमारियो को पैदा कर सकता है। इसीलिए अगर आपको कोई लक्षण दिखे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बलगम जमने के कारण

  1. जुकाम या फ्लू होने पर नाक और गले में साफ और पतला बलगम निकलता है।
  2. सर्दी जुकाम होने पर कोई संक्रमण का खतरा हो जाता हैं तो बलगम गाढ़ा हो जाता है।
  3. निमोनिया में पीड़ित व्यक्ति के फेफड़ों में संक्रमण हो जाता है। निमोनिया होने पर व्यक्ति को भी छाती में कफ जम जाता है।
  4. कुछ लोगो को एलर्जी होती है जिससे छिक आने लगती है खासी होने लगती है जिससे बलगम की समस्या हो जाती है।
  5. कुछ खाद्य पदार्थ जैसे दही, पनीर और मक्खन बलगम बनने का कारण बनते हैं।
  6. टीबी होने पर व्यक्ति को गंभीर रूप से छाती में दर्द, सांस लेने दिक्कत और सीने में कफ जमा होने जैसे लक्षण दिखाई देने लगते हैं।
  7. काली खांसी होने पर भी बलगम की समस्या हो जाती है।
  8. अधिक स्मोकिंग करने पर भी बलगम की समस्या हो जाती है।

कौनसी बीमारी होने पर बलगम अधिक बनता है

  • एसिड रिफ्लक्स
  • एलर्जी
  • अस्थमा
  • सिस्टिक फाइब्रोसिस
  • क्रोनिक ब्रोंकाइटिस
  • अन्य फेफड़े संबंधी रोग बलगम के कारण होते हैं।

कफ (बलगम) आने पर क्या नही खाना चाहिए

1. घी नही खाएं

अगर सर्दी-खांसी हो जाए तो घी का सेवन नही करे क्योंकि घी खाने से खांसी के साथ कफ आने लगता है।

2. दूध नही पिए

एक रिसर्च के अनुसार कुछ ही लोगों को जुकाम-खांसी में दूध पीने से कफ की परेशानी होती है। सिर्फ दूध ही नहीं बाकि डेयरी प्रोडक्ट्स भी कफ बनाते हैं। इसीलिए इनका सेवन करने से बचे जब आपकी जुकाम सर्दी दूर हो जाए तो आप इनका सेवन कर सकते हैं।

3. पनीर नही खाए

पनीर को पचने में समय लेता है। जिन खाद्य पदार्थों को पचने में समय लगता है उन्हे कफ वाले मरीज नही खाए। पनीर से कफ भी ज्यादा बनता है।

4. फ्राई फूड और मैदा से बचे

जुकाम-खांसी ठीक होने तक में तला खाना जैसे पकोड़े, रोल्स, परांठे आदि और मैदे से बनी चीज़े ब्रेड, पास्ता, मैगी, भटूरे, कुल्चे आदि का सेवन नही करे।

5. नॉनवेज से बचे

कफ की समस्या है तो नानवेज का सेवन नहीं करना चाहिए। अगर कफ बहुत ज्यादा बन रहा है तो नॉनवेज का सेवन बिल्कुल न करें।

6. ऑयली खाद्य पदार्थ का सेवन नही करे

डॉक्टर भी ऑयली खाद्य पदार्थ से बचने की सलाह देते हैं। इन्हे खाने से बचे।

गले से कफ निकालने के उपाय [ गले में बलगम का घरेलू उपाय ]

1. गरारे

कफ निकलने के लिए गरारे करना बेहद फायदेमंद है। इसके लिए एक ग्लास गर्म पानी में नमक मिलाकर गरारे करें। सुबह और शाम दोनों बार गरारे करने से आप कुछ ही दिनों में कफ से छुटकारा मिल जाएगा।

2. नींबू का रस

नींबू का रस कफ को निकालने में मदद करता है। नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड कफ निकालने में मदद करता है। नींबू में एंटीबैक्टीरियल और विटामिन सी के गुण होते हैं, जो कफ से छुटकारा दिलाते हैं। एक गिलास नींबू पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार पिए। इसे पीने से कफ कम बनेगा।

3. लहसुन

लहसुन खाने से गले में जमा कफ बाहर निकल जाता है। इसके लिए लहसुन को सेककर इसे खाए।

4. कच्ची हल्दी का रस

कफ निकालने के लिए कच्ची हल्दी के रस को गले में डालकर कुछ देर के लिए मुंह बंद करे, आपकी समस्या दूर हो जाएगी।

5. नींबू और प्याज

प्याज और नींबू के सेवन से भी कफ छाती से निकल जाता है। प्याज को छीलकर काटकर बारीक पीस लीजिए, इसमें नींबू का रस मिलाकर एक कटोरी में उबाल लें। उबलने के बाद एक चम्मच शहद मिलाकर पिएं। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

बलगम का घरेलू उपचार [ 25 बलगम का घरेलू उपाय ]

1. अदरक और शहद

कफ से छुटकारा पाने के लिए अदरक के रस में शहद मिलाकर खाए। अगर आपको कम कफ आता है तो कुछ दिनों तक इसे खाने से कफ नही आएगा।

2. गर्म तरल पदार्थों का सेवन करें

कफ से छुटकारा पाने के लिए गर्म तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए। क्योंकि गर्म तरल पदार्थ कफ को ढ़ीला करके, उसके जमाव को कम करने में मदद करता है। इसके बिना कैफीन की चाय, फलों के गर्म रस या गर्म नींबू पानी आदि का सेवन करें।

3. काली मिर्च का पानी

कफ से छुटकारा पाने के लिए काली मिर्च के कुछ दानों को अच्छी तरह पीस लें। दो कप पानी गर्म करें उसमे काली मिर्च का पाउडर डालकर जब तक उबाले तब आधा कप रह जाए। इसे छानकर इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करे।

4. शहद

शहद को गर्म पानी में मिलाकर पीने या फिर शहद में काली मिर्च पाउडर मिलाकर खाना भी फायदेमंद होता है। शहद में एंटीवाइरल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो कफ को खत्म करते हैं।

5. अदरक और तुलसी का पेस्ट

तुलसी और अदरक को बारीक कूटकर खाने से कफ कम बनाता है। सर्दियों के लिए यह सही होते हैं।

6. अदरक की चाय

अदरक की चाय भी फायदेमंद होती है। इसे बनाने के दो कप पानी में अदरक का टुकड़ा डाल दें। इसे तब तक उबाले जब एक कप पानी बच जाए। फिर दो चम्मच शहद मिलाएं और पीले। इसे दिन में दो बार पिए।

7. अदरक और नमक

अदरक को छोटे छोटे टुकड़ों में काटकर तवे पर नमक डालकर, आंच पर अदरक के टुकड़ी को सेक लें, फिर इन्हे दिन में बार बार खाते रहे। ये भी बहुत फायदेमंद होते हैं।

8. हल्दी

कफ से छुटकारा पाने के लिए गर्म दूध या फिर गर्म पानी में हल्दी मिलाकर पिए। हल्दी भी बहुत फायदेमंद होती है। हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो बलगम में मौजूद बैक्टीरिया को मारते हैं।

कफ के रोकथाम के उपाय

  1. रोजाना गुनगुने पानी से नहाना चाहिए।
  2. रोजाना कुछ देर धूप में रहे।
  3. रोजाना व्यायाम करें।
  4. चिंता नहीं करे।
  5. उबले हुऐ पानी से भाप लें।
  6. कफ को ढ़ीला व पतला करने के लिए रोजाना कम से कम आठ गिलास पानी चाहिए।
  7. नमक वाले गर्म पानी से रोजाना गरारे करें।
  8. गर्म तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए।
  9. बाजरा, मक्का, गेंहूं, किनोवा ब्राउन राइस ,राई आदि अनाजों का सेवन करना चाहिए।
  10. खाना बनाने में जैतून के तेल और सरसों के तेल का उपयोग करें।
  11. मैदे और इससे बनी चीजों का सेवन नही करें।
  12. धूम्रपान करना बंद कर दें।
  13. डेयरी उत्पाद, मांस या तला हुआ भोजन आदि जैसे खाद्य पदार्थ खाने से बचें, इनसे अधिक कफ बनता है।

बलगम के बारे में पूछे जाने वाले सवाल

बलगम की समस्या में दूध पी सकते हैं क्या

सर्दी या जुकाम में दूध पीने से कफ की परेशानी अधिक होती है। सिर्फ दूध ही नहीं बाकि डेयरी प्रोडक्ट्स भी कफ बनाते हैं। इसीलिए इनका सेवन करने से बचे।

जब बलगम में खून आने लगे तो इनहेलर लेना चाहिए या नहीं

जब बलगम में खून आने लगे तो कुछ भी करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें।

कोविड-19 के बाद सूखा बलगम का उपाय

इसे भी कोरोना का लक्षण बताया गया है। शरीर में कोई भी लक्षण नजर आते ही घर के बाकी सदस्यों से खुद को दूर कर लें। करीब 2 सप्ताह तक लोगों के संपर्क से बचें। मास्क पहनें। लगातार हाथ धोते रहें और डॉक्टर्स की सलाह पर दवाओं का इस्तेमाल करें।

कोरोना वायरस में बलगम आता है क्या

किसी किसी में यह लक्षण दिखे है।

बलगम की जांच को अंग्रेजी में क्या कहते हैं

sputum test

बेहोश व्यक्ति के गले में अटकी कफ को कैसे निकाले?

अगर ऐसा होता है तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। यही सही रहेगा।

क्या पानी की कमी से गले में बलगम बनता है?

तरल पदार्थ नहीं पीने से यह समस्या हो सकती है इसीलिए दिन में कम से कम आठ गिलास पानी चाहिए। क्योंकि यह कफ को ढ़ीला व पतला करता है।

गले में कफ और दर्द होता है इसका क्या इलाज है?

कफ से छुटकारा पाने के लिए गर्म तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए। क्योंकि गर्म तरल पदार्थ कफ को ढ़ीला करके, उसके जमाव को कम करने में मदद करता है। इसके बिना कैफीन की चाय, फलों के गर्म रस या गर्म नींबू पानी आदि का सेवन करें।

अगर सीने में कई दिनों से कफ जमा है तो कैसे दूर करें?

नींबू का रस कफ को निकालने में मदद करता है। नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड कफ निकालने में मदद करता है। नींबू में एंटीबैक्टीरियल और विटामिन सी के गुण होते हैं, जो कफ से छुटकारा दिलाते हैं। एक गिलास नींबू पानी में एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार पिए। इसे पीने से कफ कम बनेगा। अगर यह समस्या अधिक है तो डॉक्टर से संपर्क करें।

काला रंग का बलगम क्यों आता है

काला रंग का बलगम उन लोगों को होता है जो अधिक स्मोकिंग करते हैं जिससे फेफड़ों में अधिक मात्रा में धुआं भर जाता है। इसके अलावा यह क्रोनिक साइन संक्रमण के लक्षण भी हो सकते हैं। इसीलिए समय पर डॉक्टर से संपर्क करें।

बलगम ज्यादा क्यों बनता है?

अगर बलगम अधिक गाढ़ा और पीला निकल रहा है तो यह साइनोसाइटिस की समस्या हो सकती है। इस तरह की समस्या शरीर में तब होती है जब नाक में मोल्ड स्पोर्स जैसे इंफेक्शन की समस्या होती है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,043FansLike
2,811FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles