Bael Uses : Fruit,Leaves,Juice Health Benefits

बेल पाउडर के फायदे,बेल खाने के नुकसान,बेल का पत्ता खाने के फायदे

आओ चलो Bael Uses : Fruit,Leaves,Juice Health Benefits के बारे में विस्तार से चर्चा करते है |

बेल एक ऐसा ओषधीय पौधा हैं जिसे भगवान शिव का रूप माना जाता है।
इसे भारत में बहुत से नामो से जाना जाता हैं जैसे – बील, बेल, बेलपत्र, श्रीफल,सदा फल इसका वानस्पतिक नाम एगले मार्वेलोस अन्य नाम सांडिलियो इत्यादि। इसका संस्कृत नाम बिल्व हैं।

बेल पत्र के पत्ते के फ़ायदे और उपयोग

  1. मधुमेह (Diabeates) में उपयोग :- 15 बेल पत्र (Bael Uses) और 5 काली मिर्च पीसकर चटनी बना ले एक कप पानी में इसे घोलकर पीने से मधुमेह ठीक हो जाता है इसे 1साल से 2साल तक उपयोग करें।
    अपच में उपयोग :- 20 बेल के पत्ते लेकर उनको पीसकर सेंधा नमक मिलाकर पी ले इसे दिन में तीन बार लेने से अपच दूर हो जाएगा और पाचन क्रिया भी मजबूत हो जाएगी।
  2. कुक्कुर खासी में :- 100 ग्राम बेल के पत्ते पीसकर लुगदी बनाकर , 100 ग्राम घी में मिलाकर धीमी आंच पर ढ़क्कर सेके तथा जिससे उसकी गंद ना उडे लुगदी के जमने पर इसका पीसकर चूर्ण बनाए यह चुटकी भर चूर्ण शहद के साथ सुबह – शाम चाटने से कूक्कुर खासी कुछ दिनों में ठीक हो जाएंगी।
  3. हाई ब्लड प्रेशर :- बेल  के पांच पत्ते लेकर पीसकर चटनी बना ले इस चटनी को एक गिलास पानी में डालकर इतना गरम करे कि पानी आधा हो जाए फिर इसको ठंडा करके पिए इसका सेवन हर दिन करने से हाई ब्लप्रेशर जल्दी ठीक हो जाएगा।

बेल फल के फ़ायदे

1. Nervas System को अच्छा बनाता हैं ।
2. नसो के दर्द में यह फायदेमंद हैं।
3. जिनको कम नींद आती है वो लोग इसका सेवन जरूर करें
4. दिमाग की समस्या में यह बहुत लाभकारी हैं।
5.पाचन तंत्र में यह लाभकारी हैं।
6. लूज मोशन (दस्त) में और खट्टी डकार में इसका उपयोग लाभकारी हैं।
7.यह फल कच्चा खाने में ज्यादा लाभकारी हैं। और पका फ़ल भारी होने के कारण पाचन क्रिया में परेशानी हो सकती हैं।
8. पाइल्स (बवासीर) की परेशानी में बहुत लाभकारी हैं।
9.यह खून की कमी को भी पूरा करता हैं।
10. डायबिटीज़ (मधुमेह), किड़नी की समस्या में यह बहुत लाभकारी हैं।
11. महिलाओं के लिए गर्भाशय से जुड़ी समस्याओं में बेल एक टानिक हैं।
12. महिलाओं में सफेद पानी की समस्या के लिए यह उत्तम औषधि हैं।
13.पेट के कीड़े को मारने के लिए इसका शर्बत बहुत लाभदायक हैं।

बेल फल के फ़ायदे

बेल के असाधारण फ़ायदे और उपयोग

  • -कान में बहरेपन या कान में दर्द
    बेल के 4 या 5 पत्तो को आधा कप पानी में उबाकर जब एक चोथाई हिस्सा बचा हो। उसे छानकर ठंडा करके कान में डाले धीरे धीरे बहरेपन या जन दर्द ठीक हो जाता है। उसे फेकै नहीं फ्रिज में रख दे बाहर ना रखे दोबारा काम में ले सकते है।
  • – बादी बवासीर या खूनी बवासीर
    बेल के फल को सुखाकर उसका पाउडर बना ले । पाउडर की एक एक चम्मच सुबह शाम दही की लस्सी में डालकर पिये। बवासीर में बहुत लाभ मिलेगा।
    बवासीर में मस्सो के लिए एक चम्मच पाउडर एक कप पानी में डालकर उबालकर और छानकर मस्सो पर लगाए मस्सो में राहत मिलेगी।
  • – कब्ज की शिकायत में
    सूखी बेल गिरी का पाउडर एक चम्मच सुबह शाम गाय के दूध में डालकर पिये। कब्ज की शिकायत खत्म हो जाती है।
  • – मासिक धर्म में
    मासिक धर्म पेट दर्द होने पर या बच्चेदानी में सूजन आने पर बेल गिरी का पाउडर सुबह शाम दही के साथ लेने से दर्द और सूजन काम होगी रोजाना लेने सी खत्म हो जाती है।
  • – फोड़े फुंसी होने पर
    बेल के पत्ते को पीसकर उसका रस निकालकर उसका लेप लगाएं फिर कुछ दिनों में फोड़े फुंसी ठीक ही जाएगा।
  • – लीवर की परेशानी में
    जिन लोगो को लीवर खराबी के कारण पेट ने पानी जमा होने लगता है। जिसे ए साइटिस या जलोधर रोग के नाम से जानते है। उनके लिए बिल्व गिरी का पाउडर 1 चम्मच, काली मिर्च का पाउडर 1 चोथाई चम्मच दोनों को मिलाकर सुबह शाम गर्म दूध के साथ पीने से बहुत लाभ मिलेगा। ऐसे रोगियों की नमक और पानी बंद कर देना चाहिए उसकी जगह दलिया और दूध का इस्तेमाल करे।

बिल्व फल के नुकसान

जिनका शुगर लो रहता है वो इसका इस्तेमाल ना करे क्योंकि ये शुगर को लो करता है।

आपको Bael Uses : Fruit,Leaves,Juice Health Benefits in Hindi  यह जानकारी कैसी लगी कमेंट बॉक्स ने लिखकर जरूर बताए | कोई जानकारी रह गई और आपके कोई प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें हम जल्द से जल्द आपको जवाब देने की कोशिश करेंगे।
अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगे और आपको ऐसी जानकारी पड़ना और अपनी नॉलेज को बढ़ाना चाहते हो तो दिए गए न्यूज़लैटर बॉक्स में अपनी डिटेल भरकर सब्सक्राइब करे
जिससे आपको ई- मेल के जरिए समय – समय नई जानकारी के लिए अपडेट कर सके धन्यवाद।

Show 1 Comment

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *