25.2 C
New York
Thursday, July 29, 2021

अलसी के फायदे और नुकसान (Alsi ke Fayde aur Nuksan in hindi)

अलसी के फायदे और नुकसान | alsi ke fayde | alsi ke fayde aur nuksan in hindi | अलसी के नुकसान | भुनी हुई अलसी खाने के फायदे

अलसी या तीसी का उपयोग ज्यादातर सभी के घर में किया जाता है। अलसी के बीज का उपयोग कई रेसिपी में भी किया जाता है। अलसी के बीज खाना हमारे सेहत के फायदेमंद होता है। अलसी के बीज का रोजाना सेवन करने आप कई गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं। इसके बीज दिखने में छोटे छोटे लगते हैं लेकिन इसमें इतने सारे गुण होते हैं जो आपके स्वास्थ्य को अच्छा रख सकते हैं आपको कई बीमारियो से बचाते हैं। हम आपको अलसी के फायदे के बारे मे जानकारी दे रहे हैं।
आइए जानते हैं अलसी के फायदे और नुकसान

Contents hide

अलसी क्या है?

अलसी को तीसी के नाम से भी जानते है। इंग्लिश में इसे Flax Seeds बोलते हैं। इसका उपयोग जड़ी-बूटी के रूप में किया जाता है। अलसी का पौधा रेशेदार फसलों में इसका महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इसके बीज से तेल निकाला जाता है जिसका अनेक उपयोग होता है। इसके रेशे से मोटे कपड़े, डोरी, रस्सी और टाट बनाए जाते हैं। अलसी के बीज के उत्पादक देशों में भारत, संयुक्त राज्य अमरीका तथा अर्जेण्टाइना का नाम उल्लेखनीय हैं। इसका प्रयोग से सांस, गला, कंठ, कफ, पाचनतंत्र विकार सहित घाव, कुष्ठ आदि रोगों में किया जाता है।

अलसी के अन्य नाम

अलसी का वानस्पतिक नाम लाइनम यूसीटैटीसिमम हैं।
अलसी को तीसी, लिनसीड, फ्लैक्स प्लान्ट, कॉमन फ्लैक्स, अतसी, अगसीबीज, सेमीअगासे, मसीना, चेरुकाना, अकासी, अलिविराई, बाजरुलकटन आदि नामो से भी जाना जाता है।

अलसी के बीज में पोषक तत्व

अलसी के बीज7 ग्राम
प्रोटीन1.28 ग्राम
फैट2.95 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट2.02 ग्राम
फाइबर1.91 ग्राम
कैल्शियम17.8 मि.ग्रा
मैग्‍नीशियम27.4 मि.ग्रा
फास्‍फोरस44.9 मि.ग्रा
पोटैशियम56.9 मि.ग्रा
माइक्रोग्राम फोलेट6.09 मि.ग्रा
माइक्रोग्राम ल्‍यूटिन45.6 मि.ग्रा
जीएक्‍सेंथिन45.6 मि.ग्रा

अलसी के फायदे और नुकसान ( alsi ke fayde | alsi ke fayde aur nuksan in hindi )

1. आंखों के रोग में फायदेमंद है

अलसी के बीज आँख संबंधी बीमारियों में फायदेमंद होते है। आंखो के रोग जैसे आंखो का लाल होना, आंख आना आदि। आंखो के रोग दूर करने के लिए अलसी के बीजों को पानी में फूला लें और फिर इसी पानी को को आंखों में डालें, परेशानी दूर हो जाएगी।

2. हृदय रोग में फायदेमंद है

अलसी के बीज, हृदय रोगों में भी फायदेमंद हैं। इसमें उपस्थित घुलनशील फाइबर्स, प्राकृतिक रूप से आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करता है। इससे हृदय की धमनियों में जमा कोलेस्ट्रॉल घटने लगता है, और रक्त का संचार सही होता है। जिससे हृदय रोग का खतरा नहीं रहता है।

3. ओमेगा-3 का अच्छा स्रोत है

अलसी के बीज ओमेगा-3 के अच्छे स्रोत है। जो लोग शाकाहारी हैं उनके लिए अलसी के बीज ओमेगा-3 का बेहतर विकल्प है, क्योंकि मछली को ही ओमेगा-3 का अच्छा स्त्रोत माना जाता हैं, जिसका सेवन शाकाहारी लोग नही करते हैं केवल नॉन-वेजिटेरियन लोग ही कर पाते हैं।

4. हड्डियो में दर्द और सूजन होने पर

अलसी के बीज हड्डियो में दर्द और सूजन में फायदेमंद है। हड्डियो में दर्द और सूजन होने पर एक भाग कुटी हुई अलसी को, 4 भाग उबलते हुए पानी में डालकर धीरे-धीरे मिलाकर हल्का गाढ़ा पेस्ट बनाएं। इस पेस्ट को दर्द, या सूजन वाली जगह पर लगाएं।

5. कोलेस्ट्रॉल को कम करे

अलसी में ओमेगा-3 पाया जाता है जो रक्त प्रवाह को बेहतर कर, खून के जमने से रोकता है। अलसी के बीज रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक है। रोजाना अलसी के बीज खाने से आपका कोलेस्ट्रॉल का लेवल 6 से 11 प्रतिशत तक कम हो सकता है, क्योंकि अलसी के बीज में हाइ फाइबर और लिगनेन होता है।

6. टीबी होने पर

टीबी होने पर 25 ग्राम अलसी के बीजों को पीसकर, रात भर ठंडे पानी में भिगो दें। फिर सुबह इसी पानी को गर्म करके नींबू का रस मिलाकर, पिएं। टी.बी. रोग में आराम मिलेगा।

7. पाचन शक्ति अच्छी रहती है

अलसी के बीज का रोजाना सेवन करने से आप पाचन शक्ति बढ़ती हैं। असली में पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है, जो पाचनशक्ति को बढ़ती है जिससे कब्ज की समस्या दूर हो जाती हैं।

8. कान में सूजन होने पर

कान की सूजन को ठीक करने के लिए अलसी को प्याज के रस में पकाकर, छान लें। रस 1-2 बूंद कान में डालें। इससे कान की सूजन ठीक हो जाएगी।

9. सिर दर्द होने पर

अलसी के बीज सिर दर्द से छुटकारा दिलाने में भी लाभकारी है। सिर दर्द होने पर अलसी के बीजों को ठंडे पानी में पीसकर लेप करें। इससे सूजन के कारण होने वाले सिर दर्द, या अन्य तरह के सिर दर्द में फायदा मिलता है।

10. घाव सुखाने में मदद करते है

घाव सुखाने के लिए अलसी के पाउडर को दूध में मिला लें। इसमें थोड़ी हल्दी डालकर अच्छे से पका लें। जब गाढ़ा पेस्ट बन जाए तो हल्का गर्म घाव पर लगाए। ऊपर से पान का पत्ता रख कर बांध दें। इस प्रकार कुल 7 बार बांधने से घाव पककर फूट जाता है।

11. जोड़ों में दर्द होने पर

जोड़ों में दर्द होने पर अलसी की बीजों को इसबगोल के साथ पीसकर लगाए फायदा मिलेगा। इसके अलावा अलसी के तेल को गर्म कर उसने शुंठी का चूर्ण मिलाकर मालिश करने से कमर दर्द, तथा गठिया में भी फायदा मिलता है।

12. महिलाओं में हार्मोन्स के संतुलन को बनाए रखता है

अलसी के बीज में लाइगन नामक तत्व उपस्थित होते हैं, जो आंतों में सक्रिय होकर, ऐसे तत्व का निर्माण करते है। महिलाओं में हार्मोन्स का संतुलन बना रहता है।

13. खांसी, या दमा होने पर

अगर खांसी, या दमा की समस्या है तो अलसी के बीज बहुत फायदेमंद होते हैं। इसके लिए 5 ग्राम अलसी के बीजों को कूटकर छान लें। फिर पानी में उबालकर 20 ग्राम मिश्री मिला लें। अगर सर्दी का मौसम है तो शहद मिलाएं। इसे सुबह और शाम सेवन करें। खांसी, या दमा में राहत मिलेगी।

14. मूत्र रोग होने पर

अगर किसी को मूत्र रोग जैसे, पेशाब करने में दिक्कत, पेशाब की जलन, पेशाब में खून आना, पेशाब में मवाद आने जेसी समस्या है तो 50 ग्राम अलसी, 3 ग्राम मुलेठी को कूट लें। इसे 250 मिली पानी के साथ मिट्टी के बर्तन में हल्की आंच पर पकाएं। जब 50 मिली पानी रह जाए तो, इसे छानकर 2 ग्राम कलमी शोरा मिला लें। इसे 2 घंटे के अंतर से 20-20 मिली की मात्रा में पिएं।

15. झुर्रियां से छुटकारा पाए

अलसी के बीज झुर्रियां से छुटकारा दिलाने में सहायक है। इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स और फाइटोकैमिकल्स तत्व होते हैं जो बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करते है, जिससे त्वचा पर झुर्रियां नहीं होती है।

भुनी हुई अलसी खाने के फायदे

1. कफ की समस्या दूर करे

अलसी के बीज कफ की समस्या से छुटकारा दिलाते हैंं। कफ की समस्या होने पर 50 ग्राम भूनी अलसी का पाउडर और 50 ग्राम मिश्री, 10ग्राम मारीच मिला ले। रोजाना सुबह 3-5 ग्राम की मात्रा में सेवन करें।

2. जुकाम होने पर

जुकाम होने पर अलसी बहुत फायदेमंद होती है। जुकाम होने पर अलसी के बीज को धीमी आंच से तवे पर भून लें। अच्छी तरह से भून जाने के बाद पीस लें। उसके बाद अलसी के पाउडर के बराबर मात्रा में मिश्री मिला लें। सुबह और शाम 5 ग्राम की मात्रा में गर्म पानी के साथ खाए।

3. तिल्ली रोग होने पर

तिल्ली रोग होने पर अलसी के बीज को भूनकर चूर्ण बना लें। चूर्ण में शहद मिलाकर सेवन करें। तिल्ली रोग में आराम मिलेगा।

4. मधुमेह के मरीजों के लिए फायदेमंद है

भुनी हुई अलसी मधुमेह के मरीजों के लिए फायदेमंद है। अलसी के बीजो को भुन लें और दरदार पीस लें। इसके बाद आप भोजन के बाद इसका सेवन कर सकते हैं। मधुमेह से ग्रस्त लोगों को इसका सेवन करने से काफी फायदा होता है।

5. ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल रहता है

रोजाना भुनी हुई अलसी खाने से उनका ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल रहता है और पेट से संबंधित परेशानियां भी दूर रहती हैं।

6. वात रोग के कारण होने वाले फोड़े में फायदेमंद है

वात रोग के कारण होने वाले फोड़े में जलन, और दर्द हो तो अलसी के बीज और तिल्ली को भून लें। उसके बाद दोनो को गाय के दूध में उबाले। जब ठंडा हो जाए तो उसी दूध में पीसकर फोड़े पर लगा ले।

अलसी के सेवन से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

अलसी के नुकसान

  1. अधिक मात्रा में अलसी खाने आंतों के लिए खतरनाक हो सकता है।
  2. जिन लोगों को अलसी खाने से एलर्जी है उन्हे ब्लडप्रेशर की समस्या हो सकती है। घबराहट या उल्टी की शिकायत भी हो सकती है।
  3. अलसी का सेवन कब्ज के लिए यह फायदेमंद है, लेकिन अधिक मात्रा में सेवन नुकसान दायक होता है।
  4. गर्भावस्था में अलसी का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ले।
  5. महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग की परेशानी हो सकती है।
  6. बच्चों को अलसी का सेवन न कराएं
  7. अगर आप खून को पतला करने की दवा ले रहे हैं, तो अलसी का सेवन आपके लिए खतरनाक हो सकता है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

22,043FansLike
2,874FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles