4th Month of Pregnancy in Hindi | चौथा महीना में शिशु का विकास | प्रेग्नेंसी में त्वचा का ख्याल कैसे रखे | प्रेग्नेंसी में खून केसे बढ़ाए | 4th Month of Pregnancy in Hindi

प्रेग्नेंसी का चौथा महीना में शिशु का शारीरिक विकास [ 4th Month of Pregnancy in Hindi ]

  • चौथे महीने के शुरू में शिशु की लंबाई 8-9 सेमी तक होगी और वजन 28 ग्राम तक होगा।
  • इस महीने के बाद शिशु की लंबाई 12-13 सेमी और वजन 90-100 तक हो जाएगा।

How to Get Pregnancy Tips

और पढ़ें:– पीरियड आने से पहले प्रेगनेंसी के लक्षण, प्रेगनेंसी के लक्षण, प्रेगनेंसी के लक्षण इन फर्स्ट वीक

और पढ़ें:– 2 महीने गर्भावस्था के लक्षण | गर्भावस्था के दूसरे महीने में क्या खाए

चौथे महीने के लक्षण

  • प्रेग्नेंसी के चौथे महीने के लक्षण भी वही होते है जो अन्य महीनों के होते हैं। लक्षण जानने के लिए हमारी अन्य पोस्ट पढ़े।
  • चौथे महीने से पैरो के सूजन आने लग जाती है इसके लिए रोजाना सुबह नारियल का पानी पिए।
  • शाम के समय पैरो की मालिश करना नहीं भूले।

प्रेग्नेंसी में हम त्वचा का ख्याल कैसे रखे

  • प्रेग्नेंसी में हम त्वचा का ख्याल कैसे रखे जिससे प्रेग्नेंसी में मुंहासे, प्रेग्नेंसी मेलाजमा, झाईया नहीं हो।
  • आपकी स्किन का कलर नहीं बदले स्किन मे कोई समस्या नहीं हो।
  • आइए जानते हैं प्रेग्नेंसी में त्वचा का ख्याल कैसे रखे

1. विटामिन

  • स्किन को हेल्थी रखने के लिए स्किन को ग्लोइंग रखने के लिए अच्छा भोजन जरूरी है।
  • यदि आप बाहर से ही ऑयल क्रीम बदलते रहेंगे तो कुछ नहीं होगा।
  • अंदर से हेल्थी होंगे अंदर शरीर में सभी विटामिन्स की पूर्ति होगी तो स्किन भी हेल्थी होगी।
  • स्किन को हेल्थी रखने के लिए हमें विटामिन ए, विटामिन सी, मल्टी विटामिन की जरूरत होती है।

2. हीमोग्लोबिन

  • हीमोग्लोबिन हर तीन महीने में चेक कराना चाहिए।
  • जब आपकी प्रेग्नेंसी शुरू हो एक तब चेक कराए। फिर हर तीन महीने में ब्लड चेक कराए।
  • हीमोग्लोबिन कम होगा तो स्किन का रंग डल होगा झाइयां हो जाएगी।
  • हीमोग्लोबिन को मेंटेन रखना चाहिए हीमोग्लोबिन को 11-12 के बीच रखना चाहिए।
  • इसके लिए रोजाना सेब, अमरुद खाने चाहिए 2-4 तुलसी की पत्तियां चबानी चाहिए

3. स्किन को मॉइश्चराइजर रखे

  • रात को सोते समय पूरी बॉडी की बादाम तेल से मालिश करें।
  • बादाम के तेल में विटामिन ई होता है जो आपके स्किन के सेल को अच्छे से नर्जिस्ट रखता है।

4. सन बर्न से बचे

  • जब आप धूप में निकलोगे तो बहुत ज्यादा गर्मी लगेगी और तुरंत ही सन बर्न हो जाएगा।
  • जब भी बाहर निकले सनस्क्रीन लगाना नहीं भूले। कभी कभी पूरी बॉडी पर चकत्ते हो जाते हैं इसके लिए विटामिन ई की क्रीम लगाए।
  • पिंपल होने पर नीम की पत्तियों को पीसकर उसमें थोड़ी सी हल्दी डालकर जिस जगह पर मुहांसे हो रहे हैं उस जगह पर लगा दे।
  • आप एलोवेरा जेल भी लगा सकते है आपके मुंहासे सही हो जाएंगे।

5. डार्क सर्कल्स होने पर

  • प्रेग्नेंसी के दौरान नींद नहीं आना और हार्मोन्स की वजह से डार्क सर्कल्स भी हो जाते हैं।
  • डार्क सर्कल्स के रात को सोते समय बादाम तेल को आंखो के चारो और लगाकर सो जाए।

प्रेग्नेंसी में खून की कमी को पूरा केसे करें

  • गर्भवती महिला के गर्भ में शिशु पल रहा होता है इस स्थिति में ज्यादातर महिलाओं के शरीर में खून की कमी हो जाती है।
  • प्रेग्नेंसी में खून की कमी हो जाना बहुत ही खतरनाक होता है।
  • इसे लापरवाही से लेना मा और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक होता है।

1. चुकंदर

  • प्रेग्नेंसी में खून की कमी होने पर चुकंदर का सेवन करना चाहिए।
  • चुकंदर में बहुत ज्यादा मात्रा में आयरन पाया जाता है।
  • चुकंदर गर्भवती महिला के शरीर में खून की कमी नहीं होने देता है।
  • गर्भवती महिला को रोजाना सुबह शाम एक एक चुकंदर का सेवन करना चाहिए। चुकंदर का जूस भी पी सकते हैं।

2. अनार

  • अनार बहुत तेजी से खून बढ़ाता है। अनार में आयरन भरपूर मात्र में पाया जाता है।
  • प्रग्नेंसी के दौरान रोजाना अनार का सेवन जरूर करना चाहिए।
  • यह गर्भ में पल रहे शिशु के ग्रोथ होने में भी सहायता करता है।

3. हरी सब्जियां

  • प्रग्नेंसी के दौरान हरी सब्जियां के सेवन से गर्भवती महिलाओं के शरीर में हीमोग्लोबिन का लेवल सही रहता है।
  • इससे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण होता है।
  • क्योंकि इसमें आयरन भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।
  • हरी सब्जियों में पालक, ब्रोकली, बीन्स, गाजर इन सब चीजों को खाने में शामिल करना चाहिए।

4. ड्राय फ्रूट्स

  • गर्भवती महिलाओं को ड्राय फ्रूट्स जरूर खाने चाहिए क्योंकि ड्राय फ्रूट्स में भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता है।
  • जो गर्भवती महिलाओं के शरीर में खून की कमी को तेजी से पूरा करता है।
  • ड्राय फ्रूट्स में बादाम, किशमिश, अखरोट का सेवन करना चाहिए।

खून की कमी के लक्षण

  • गर्भवती महिला में खून की कमी होने पर सिर दर्द, चक्कर आने लगते हैं।
  • हाथ पैर के नाखून और आंखो में पीलापन दिखता है।
  • कमजोरी, चिड़चिड़ापन, थकान होने लगती है।
  • सांस लेने में भी कठिनाई हो सकती है।
  • अगर ये लक्षण है तो गर्भवती महिला में खून की कमी है।

मुनक्का और दूध के फायदे

आपको 4th Month of Pregnancy in Hindi यह जानकारी कैसी लगी कमेंट बॉक्स ने लिखकर जरूर बताए | कोई जानकारी रह गई और आपके कोई प्रश्न हो तो कमेंट बॉक्स में लिखें हम जल्द से जल्द आपको जवाब देने की कोशिश करेंगे।
अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगे और आपको ऐसी जानकारी पड़ना और अपनी नॉलेज को बढ़ाना चाहते हो तो दिए गए न्यूज़लैटर बॉक्स में अपनी डिटेल भरकर सब्सक्राइब करे और दिए गए Bell Icon को जरूर दबाए
जिससे आपको ई- मेल और
Mobile Notification के जरिए समय – समय नई जानकारी के लिए अपडेट कर सके धन्यवाद।

Leave a Comment

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *